Facebook यूजर्स को मिलेंगे 26 लाख रूपये, करना होगा ये काम

facebook-1457336650_835x547
डाटा मि‍सयूज मामले में एक तरफ जहां फेसबुक शेयर्स में गिरावट की मार झेल रहा है। वहीं दूसरी तरफ कंपनी एक ऐसे सर्विस की शरुआत की है। जिसमें यूजर्स को 500 डॉलर से लेकर 40,000 डॉलर यानी करीब 26 लाख रुपए तक का इनाम मिलेगा। हालांकि, इसके लिए यूजर्स को फेसबुक को डाटा मि‍सयूज की जानकारी देनी होगी। कंपनी ने कहा इस इनाम का लाभ उन्हें ही मिलेगा जो सबूत के साथ फेसबुक को यह बता पाएंगे कि‍ उनके प्‍लेटफॉर्म…

डाटा मि‍सयूज मामले में एक तरफ जहां फेसबुक शेयर्स में गिरावट की मार झेल रहा है। वहीं दूसरी तरफ कंपनी एक ऐसे सर्विस की शरुआत की है। जिसमें यूजर्स को 500 डॉलर से लेकर 40,000 डॉलर यानी करीब 26 लाख रुपए तक का इनाम मिलेगा। हालांकि, इसके लिए यूजर्स को फेसबुक को डाटा मि‍सयूज की जानकारी देनी होगी।

कंपनी ने कहा इस इनाम का लाभ उन्हें ही मिलेगा जो सबूत के साथ फेसबुक को यह बता पाएंगे कि‍ उनके प्‍लेटफॉर्म पर चलने वाला कोई एप लोगों का डाटा लेकर उसे थर्ड पार्टी को बेच रहा है या कोई एप लोगों का डाटा चुरा रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- Facebook Data Leak : जुकरबर्ग ने माना, 5 लाख भारतीय यूर्जस का डाटा हुआ लीक }

वहीं कैंब्रिज अनालिटिका डेटा लीक मामले में फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग की यूएस कांग्रेस के सामने पेशी हुई। जिसमें उन्होंने कहा कि फेसबुक के कारण भारत में आगामी चुनाव पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। इस दिशा में वो प्रयासरत हैं। जकरबर्ग ने कहा कि 2018 चुनाव के मद्देनजर बहुत ही महत्‍वपूर्ण साल है। इस साल अमेरिका में मध्यावधि चुनाव होने हैं। वहीं, भारत, पाकिस्‍तान, ब्राजील जैसे देशों में भी चुनाव हैं। हम भरोसा दिलाते हैं कि हम वो सब कुछ करेंगे जिससे ये चुनाव प्रभावित न हों।

इसके अलावा इन्होने अमेरिकी कांग्रेस से लिखित में कहा कि उनकी कंपनी ने अपने यूजरों  के डाटा के पिछले कुछ वर्षों से हो रहे दुरुपयोग को रोकने के लिये पर्याप्त कदम नहीं उठाये। उन्‍होंने इसे लेकर कांग्रेस सदस्यों से माफी भी मांगी। फेसबुक यह मान चूका है कि अमेरिका में आठ करोड़ 70 लाख यूजरों की निजी जानकारी राजनीतिक सलाहकार कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के साझा की थी।

{ यह भी पढ़ें:- WhatsApp सह-संस्थापक ने कहा, Facebook को 'डिलीट' कर दें }

Loading...