घरों की सजावट के लिए तस्वीरें तथा पेंटिंग्स का प्रयोग सभी करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि तस्वीरें और पोंटिंग्स भी आपके घर में पॉजिटिव और निगेटिव एनर्जी पर प्रभाव डालतीं हैं। वास्तुशास्त्र में तस्वीरों और पेंटिंग्स की एनर्जी के विषय में जिक्र किया गया है। इस लिहाज से हमें अपने घरों में पेंटिंग्स और तस्वीरों को लगाने के लिए जगह का चुनाव सही तरीके से करना चाहिए।

घर के दक्षिण-पूर्व यानी आग्नेय कोण में किसी सुंदर महिला या युवती की तस्वीर या पेंटिंग लगानी चाहिए। जिससे घर में पॉजिटिव एनर्जी का संचार होता है घर में सुख-समृद्धि भी बढ़ती है।

आपको अपने बेडरुम में राधाकृष्ण की तस्वीर लगानी चाहिए। इस तस्वीर को लगाने का सबसे उपयुक्त स्थान उत्तर-पश्चिम का कोना है। ऐसा माना जाता है ऐसा करने से दामपत्य जीवन में सुखी रहता है। पति पत्नी के बीच प्रेम बरकरार रहता है।

घर की उत्तरी दीवार पर कुबेर, लक्ष्मी या सूर्य की फोटो लगानी चाहिए। वास्तुशास्त्र के अनुसार इससे घर में धन आने के मार्ग बनते हैं। घर में लक्ष्मी का वास होता है। घर में धन की कमी नहीं होती। बीमारियां घर से दूर रहतीं हैं। घर में महंगे गहने, स्टोन्स आदि की तस्वीर लगाना भी बहुत ही शुभ माना गया है। इससे घर में आर्थिक समृद्धि आती है।

घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में यानी नैऋत्य कोण में प्रकृति संबंधी सुंदर चित्र जैसे पहाड़, सूर्य, सुंदर पेड़, बाग-बगीचे आदि की तस्वीर लगानी चाहिए। मान्यता है कि ऐसी तस्वीरें घर में निगेटिव एनर्जी को आने से रोकतीं हैं। नैऋत्य कोण को घर में निगेटिव एनर्जी के प्रवेश का रास्ता मांना जाता है। ध्यान रखें कि नैऋत्य कोण में लगी तस्वीर में नदी, झरना और बहते पानी के चित्र न हों।

घर के उत्तर-पश्चिम कोने में यानी वायव्य कोण में उड़ान भरते पक्षियों की तस्वीर लगाएं। इससे उस घर में रहने वाले लोगों की इच्छाएं पूरी होती हैं। कैरियर की दृष्टि से इस पॉजिटिव एनर्जी का श्रोत माना जाता है।

कभी न लगाएं ऐसी तस्वीरें —

महाभारत और युद्ध दर्शाती तस्वीरें और पेंटिंग्स घरों में सजावट के लिए प्रयोग न करें। ऐसे चित्र निगेटिव एनर्जी के श्रोत माने जाते हैं। कहा जाता है कि ऐसे चित्रों को घर में रखने से घर में अशांति रहती है। बेडरूम में हिंसक जंगली जानवरों की तस्वीरें न लगाएं।