दीवाली में 1000 के नकली नोट बाजार में धड्ड्ले से निकले, ऐसे करें पहचान

नई दिल्ली। धनतेरस और दीपावली की बम्पर खरीददारी के बाद से बाजार में 1000 की नकली नोटों की धड्ड्ले से सप्लाई हुई है। इस नकली नोट की खास बात ये है कि ये नोट रिज़र्वे बैंक की ओर से हाल ही में जारी हुए नए सीरीज की तरह है। जानकारी के मुताबिक पता चला है कि देश में 2000 करोड़ रुपये के 1000 और 500 के नकली नोट आए हैं। बैंक ने नोट के लिए एक नोटिस भी जारी की है नोटिस में लिखा है कि भारतीय रिजर्व बैंक के नए सर्कुलर के अनुसार अगर 1000 रुपये के नोट की सीरीज 2AQ और 8AC है, तो उसे स्वीकार न करें, साथ ही इस बात को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने की बात भी कही गई है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने आंकड़ा बताया है कि पिछले एक साल में पकड़े गए नकली नोटों की संख्या में 20 गुना से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। देश के अंदर और सीमापार नकली नोटों का कारोबार तेजी से बढ़ रहा है और इस कारण भारतीय अर्थव्यवस्था को हर साल जाली नोटों की वजह से अरबों रुपयों का नुकसान हो रहा है।

आपकी सावधानी के लिए हम यहां उन निशानों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे आप नकली नोट की पहचान कर सकते हैं।

1 . असली नोट पर वॉटरमार्क होता है। यह वाटरमार्क महात्मा गांधी की फोटो के अंदर देखा जा सकते है।
2 . 1000 और 500 रुपये के नोट में विशेष तरह की स्याही से करेंसी के बीच में उस करेंसी का मूल्य लिखा होता है, जिसे नोट टेढ़ा करके देखा जा सकता है।
3 . नोट के नीचे की तरफ लिखी गई सीरीज अल्ट्रावॉयलेट रोशनी की मदद से देख सकते हैं। वह उभरी हुआ दिखाई देती है और उसका लाल रंग चमकता है।
4 . 5, 10, 20 रुपये के असली नोट में महात्मा गांधी की फोटो के बगल में, लगभग उनके कान के पास छोटे-छोटे अक्षरों में आरबीआई लिखा होता है। जबकि इनसे ज्यादा रकम वाले नोटों में नोट की वैल्यू लिखी होती है।
5 . नोट पर ऊपर से नीचे तक एक सिक्योरिटी थ्रेड होता है, जिसमें उस करेंसी की रकम और आरबीआई लिखा होता है। असली नोट में यह साफ और मोटा दिखाई देता है, जबकि नकली में यह बहुत पतला दिखता है।

आस्था सिंह की रिपोर्ट