1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. घोटाला: कागजों में बने कालेजों ने छात्रवृत्ति के नाम पर डकार लिए सैकड़ों करोड़ रुपये, अब जायेंगे जेल..

घोटाला: कागजों में बने कालेजों ने छात्रवृत्ति के नाम पर डकार लिए सैकड़ों करोड़ रुपये, अब जायेंगे जेल..

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

Fakewada Colleges Made On Paper Have Committed Hundreds Of Crores Of Rupees In The Name Of Scholarship Now They Will Go To Jail

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शिक्षा विभाग और समाज कल्याण विभाग के गठजोड़ से कागजों में बने कालेज सैकड़ों करोड़ रुपयों का वारा—न्यारा कर रहे हैं। छात्रवृत्ति के नाम पर समाज कल्याण विभाग से सकैड़ों करोड़ रुपये वसूल ले रहे हैं। विभाग की लापरवाही के कारण भ्रष्ट अफसरों की मिलीभगत से यह पूरा खेल संचालित किया जा रहा है। वहीं मथुरा और शाहजहांपुर में ऐसा मामला उजागर होने पर हड़कंप मच गया है। समाज कल्याण विभाग अब कालेज प्रबंधक को नोटिस भेजकर जवाब मांग रहा है।

पढ़ें :- मुरादाबाद:नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान पर लगा मनरेगा में धांधली का आरोप,बिना मजदूरों के लगाई जाती हैं हाज़िरी

हालांकि, इसके बाद भी कागजों में चलाने वाले इन कालेज के प्रबंधक नोटिस का जवाब नहीं दे रहे हैं। वहीं, अब इनके खिलाफ कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गयी है। सूत्रों की माने तो इन कालेज प्रबंधकों से रुपयों की वसूली की जायेगी। इसके साथ ही पूरे मामले की जांच के लिए जल्द ही एसआईटी का गठन किया जा सकता है।

समाज कल्याण के सहायक निदेशक/सदस्य जांच समिति सिद्धार्थ मिश्र ने मथुरा के सोनई में स्थित आईटीसी के एक ऐसे ही कालेज को पत्र लिखकर जवाब मांगा था। इसमें कहा गया था कि शासन के निर्देश पर निदेशालय स्तर से गठित जांच समिति द्वारा जनपद मथुरा के समस्त प्राइवेट आईटीआई शिक्षण संस्थानों में छात्रवृत्ति एवं शुल्क प्रतिपूर्ति में वर्ष 2015—16 से 2018—19 तक की गयी गंभीर अनियमितताओं की जांच की जा रही है। इसके लिए कालेज से कई दस्तावेज मांगे गए थे।

जांच समिति ने कालेजों से मांगे यह सुबूत
1—संबन्धित वर्षों में एनसीवीटी कार्यालय नई दिल्ली से प्राप्त मान्यता स्वीकृत सीटों की संख्या का प्रमाण पत्र।
2—अनुसूचित जाति के छात्रा द्वारा संस्था में प्रवेश के समय भरे गए प्रवेश फार्म की प्रति।
3—संबंधित वर्षों में अनुसूचित जाति छात्रों द्वारा छात्रवृत्ति एवं शुल्क प्रतिपूर्ति हेतु भरे गए आवेदन पत्र एवं समस्त प्रमाण पत्रों की छायाप्रति।
4—अनुसूचित जाति के छात्रों द्वारा उक्त वर्षों में शुक्ल प्रतिपूर्ति हेतु बैंक में खोले खातों की पासबुक अथवा बैंक स्टेटमैंट की प्रति, जिससे शुल्क प्रतिपूर्ति के जमा होने एवं आहरण का विवरण प्रदर्शित हो। आहरित धनराशि जिस बैंक खाते में अंतरित हुई है उसकी भी पासबुक की फोटो प्रति।
5— उक्त वर्षों में अनुसूचित जाति छात्रों के परीक्षा परिणाम अंक तालिका सहित प्रति।

पढ़ें :- बिहार में सियासी संकट के बीच जेडीयू ने मोदी मंत्रिमंडल में मांगी हिस्सेदारी

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X