लखनऊ के मशहूर राधेलाल स्वीट्स को लगा झटका, एफएसडीए ने किया लाइसेंस निलंबित

radhey-lal-sweets-lucknow
लखनऊ के महशूर राधेलाल स्वीट्स को लगा झटका, एफएसडीए ने किया लाइसेंस निलंबित

लखनऊ। फूड सेफ्टी एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन(एफएसडीए) ने लखनऊ के अलीगंज स्थित महशूर राधेलाल स्वीट्स का फूड लाइसेंस 20 दिन के लिए निलंबित कर दिया है। दुकान से बिक्री पर तत्काल प्रभाव से रोक लग गई है। कार्रवाई के दौरान उजागर खामियां 20 दिन में पूरी तरह दुरुस्त कराने पर ही निलंबन खत्म होगा। तय मियाद में खामी दूर न कराने पर फूड लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा।

Famous Radhe Lal Sweets Of Lucknow Got A Shock Fsda Suspends License :

दरअसल, यह जानकारी एफएसडीए के मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी एसके मिश्रा ने दी। उन्होंने बताया कि घटिया गुणवत्ता की खाद्य सामग्री परोसने की शिकायत के बाद टीम ने मंगलवार को राधेलाल स्वीट्स पर छापा मारा था। भवन के दूसरे तल पर बने रेस्टोरेंट किचन में गंदगी के बीच कस्टमरों के आर्डर की खाद्य सामग्री बनते मिली थी।

वहीं, जांच के दौरान किचन में खुले बर्तन में रखे देसी घी में मक्खी पड़ी मिली थी। वहीं, भंडारण क्षेत्र में मरे चूहे संग फंफूद लगी खाद्य सामग्री भी पाई गई थी। किचन में गंदगी के बीच खाद्य सामग्री बनाने में इस्तेमाल की जा रही खुली पिसी हल्दी, मसाला सौंफ, मिर्च पाउडर पड़ी मिली थी।

बता दें, भंडारण क्षेत्र में मरे चूहे संग फंफूद लगी सामग्री भी पाई गई थी। टीम ने नौ नमूने सीज कर लैब भेजे थे। इस दौरान प्रतिष्ठान संचालक को किचन में गंदगी के बाद भी सिर्फ सुधार लाने का नोटिस दिया गया था। इसे लेकर उजागर मीडिया रिपोर्ट को गंभीरता से लेते हुए डीएम कौशल राज शर्मा ने बृहस्पतिवार को एफएसडीए के अधिकारियों को तलब किया।

साथ ही उन्होंने इसे जन समुदाय के स्वास्थ्य से सीधा खिलवाड़ मानते हुए आरोपी प्रतिष्ठान का फूड लाइसेंस तत्काल निलंबित कर किचन को तय समय में मानक अनुरूप बनाने का निर्देश दिया। इसके बाद सीएफएसओ ने राधेलाल स्वीट्स को जारी फूड लाइसेंस 20 दिन के लिए निलंबित कर दुकान से बिक्री पर भी रोक लगा दी।

लखनऊ। फूड सेफ्टी एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन(एफएसडीए) ने लखनऊ के अलीगंज स्थित महशूर राधेलाल स्वीट्स का फूड लाइसेंस 20 दिन के लिए निलंबित कर दिया है। दुकान से बिक्री पर तत्काल प्रभाव से रोक लग गई है। कार्रवाई के दौरान उजागर खामियां 20 दिन में पूरी तरह दुरुस्त कराने पर ही निलंबन खत्म होगा। तय मियाद में खामी दूर न कराने पर फूड लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा। दरअसल, यह जानकारी एफएसडीए के मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी एसके मिश्रा ने दी। उन्होंने बताया कि घटिया गुणवत्ता की खाद्य सामग्री परोसने की शिकायत के बाद टीम ने मंगलवार को राधेलाल स्वीट्स पर छापा मारा था। भवन के दूसरे तल पर बने रेस्टोरेंट किचन में गंदगी के बीच कस्टमरों के आर्डर की खाद्य सामग्री बनते मिली थी। वहीं, जांच के दौरान किचन में खुले बर्तन में रखे देसी घी में मक्खी पड़ी मिली थी। वहीं, भंडारण क्षेत्र में मरे चूहे संग फंफूद लगी खाद्य सामग्री भी पाई गई थी। किचन में गंदगी के बीच खाद्य सामग्री बनाने में इस्तेमाल की जा रही खुली पिसी हल्दी, मसाला सौंफ, मिर्च पाउडर पड़ी मिली थी। बता दें, भंडारण क्षेत्र में मरे चूहे संग फंफूद लगी सामग्री भी पाई गई थी। टीम ने नौ नमूने सीज कर लैब भेजे थे। इस दौरान प्रतिष्ठान संचालक को किचन में गंदगी के बाद भी सिर्फ सुधार लाने का नोटिस दिया गया था। इसे लेकर उजागर मीडिया रिपोर्ट को गंभीरता से लेते हुए डीएम कौशल राज शर्मा ने बृहस्पतिवार को एफएसडीए के अधिकारियों को तलब किया। साथ ही उन्होंने इसे जन समुदाय के स्वास्थ्य से सीधा खिलवाड़ मानते हुए आरोपी प्रतिष्ठान का फूड लाइसेंस तत्काल निलंबित कर किचन को तय समय में मानक अनुरूप बनाने का निर्देश दिया। इसके बाद सीएफएसओ ने राधेलाल स्वीट्स को जारी फूड लाइसेंस 20 दिन के लिए निलंबित कर दुकान से बिक्री पर भी रोक लगा दी।