1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. किसान नेता राकेश टिकैत को मिली जान से मारने की धमकी, गाजियाबाद में FIR दर्ज 

किसान नेता राकेश टिकैत को मिली जान से मारने की धमकी, गाजियाबाद में FIR दर्ज 

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को मोबाइल फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है। बता दें कि राकेश टिकैत तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में यूपी गेट पर चल रहे धरने की अगुवाई कर रहे हैं।

By शिव मौर्या 
Updated Date

गाजियाबाद। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को मोबाइल फोन पर जान से मारने की धमकी मिली है। बता दें कि राकेश टिकैत तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में यूपी गेट पर चल रहे धरने की अगुवाई कर रहे हैं। संगठन के सदस्य विपिन कुमार ने राकेश टिकैत को धमकी को मामले में गाजियाबाद के कौशांबी थाने में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत के आधार पर धमकी देने और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज हुई है।

पढ़ें :- Up Cabinet Decision : अब गाजियाबाद, आगरा और प्रयागराज में भी कमिश्नरी सिस्टम , योगी कैबिनेट की मुहर

विपिन कुमार ने बताया कि पिछले कई दिनों से भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत को एक मोबाइल नंबर से वाट्सएप काॅल पर धमकी भरे संदेश आ रहे हैं। मोबाइल फोन पर कॉल करने वाला उनके साथ अभद्रता व गाली-गलौज कर रहा है। इतना ही नहीं, विरोध करने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है।

बता दें कि पिछली बार हुई बातचीत के दौरान राकेश टिकैत ने उसे काफी समझाने का प्रयास किया। इस पर वह और गालियां देने लगा। इसकी जानकारी मिलने पर उन्होंने कौशांबी थाने में मोबाइल नंबर के आधार पर शिकायत दी है। शिकायत के आधार पर मामले में रिपोर्ट दर्ज हुई है। पुलिस अधीक्षक नगर द्वितीय ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर जांच की जा रही है। साइबर सेल की भी मदद ली गई है।

बता दें कि यूपी गेट पर 28 नवंबर से धरना चल रहा है। इसके पहले 26 दिसंबर को उन्हें मोबाइल पर धमकी मिली थी। उस समय उनके सहायक अर्जुन बालियान की शिकायत पर कौशांबी थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई थी। वह कॉल बिहार से आई थी। बता दें कि राकेश टिकैत रविवार को यूपी गेट पर थे। उन्होंने संगठन के छह मंडलों के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर धरने को लेकर रणनीति बनाई थी।

बता दें कि किसान नेता राकेश टिकैत नवंबर महीने से ही यूपी गेट पर किसान आंदोलन की अगुवाई कर रहे हैं। वह पिछले कई महीनों से देश के कोने-कोने में जाकर और पंचायत और रैली कर तीनों केंद्रीय कृषि कानून की खामिया बता रहे हैं।

पढ़ें :- गाजियाबाद में कुत्तों ने एक साल के बच्चे पर किया हमला, वीडियो देख कांप जाएगी रूह

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...