सरकार बताए किसानों का कर्जा कैसे और कब करेगी माफ?

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल ने सोमवार को राज्यसभा में गांव, गरीब और किसान का मुद्दा जोरदार ढंग से उठाया। कृषि, किसान, गरीबी, रोजगार और उद्योग के मुद्दों पर फोकस करते हुए उन्होंने कहा कि जीडीपी में निरंतर गिरावट दर्ज की जा रही है। यह स्थिति देश के लिए ठीक नहीं है। उन्होंने स्पष्ट रूप से जानना चाहा कि सरकार किसानों का कर्जा कैसे और कब माफ करेगी।




नरेश अग्रवाल ने राज्यसभा में केंद्रीय बजट 2017-18 पर र्चचा पर अपनी बात रखते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश के चुनाव में किसानों का कर्ज माफ करने का भाजपा ने वादा किया था। इस सिलसिले में कहा गया था कि उत्तर प्रदेश सरकार बनते ही पहली कैबिनेट बैठक में किसानों का कर्ज माफ और बूचड़खाना बंद करने करने का निर्णय किया जाएगा। रविवार को उत्तर प्रदेश सरकार की पहली कैबिनेट हो गई, लेकिन इन दोनों मुद्दों पर आदेश नहीं हुआ। उन्होेंने किसानों के कर्ज माफी के वादे पर सरकार से यह जानना चाहा है कि राष्ट्रीयकृत बैंक किसानों का कर्जा अकेले उत्तर प्रदेश में कैसे माफ कर सकती हैं।




यदि ऐसा हुआ तो अन्य राज्यों के किसानों के कर्ज का क्या होगा? अब देखेंगे योगी की प्रशासनिक छवि : उप्र की नवगठित योगी आदित्यनाथ सरकार की पहली कैबिनेट बैठक में किसानों का कर्ज माफ करने का निर्णय नहीं किए जाने पर खेद जताते हुए नरेश अग्रवाल ने कहा कि हमने योगीजी की राजनीतिक छवि देख ली हैं, अब उनकी प्रशासनिक छवि देखनी है। हमारी पार्टी पहले ही कह चुकी है कि हम नई सरकार को छह माह का समय देंगे और उसके बाद ही कोई टिप्पणी करेंगे।