यूपी में सीएम आवास से लेकर विधानसभा के सामने आलू की बारिश

alu-ki-barish

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार सुबह मुख्यमंत्री आवास से लेकर विधानसभा और राजभवन के सामने सड़कों पर आलू ही आलू नजर आए। यूपी के आलू किसानों में कीमतों को लेकर काफी आक्रोश है। इसी का विरोध करने के लिए किसानों ने विरोध का ये तरीका अपनाया और सड़कों पर लाखों टन आलू बिखेर दिये।
बता दें कि प्रदेश में आलू किसानों में इसलिए नाराजगी है कि यूपी में किसानों को आलू का प्रति किलो सिर्फ चार रुपये का भाव मिल रहा है जबकि मांग दस रुपये की है। यहीं नहीं कोल्ड स्टोरेज का भाड़ा भी न निकल पाने से किसान को काफी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री आवास से लेकर विधानसभा के सामने भारी संख्या में आलू पड़े होने की खबर से प्रशासन में हड़कंप मच गया। मामले को दबाने के लिए प्रशासन ने आलू उठवाने शुरू कर दिये।
हालांकि बहुत सारा आलू वाहनों के टायरों से दबकर खराब हो गया है। रात में गश्त करने का दावा करने वाली पुलिस और खुफिया विभाग का नेटवर्क भी रात में सोता रहा। इस दौरान जिला प्रशासन को भी किसानों के आलू फेंकने की जानकारी नहीं हो पाई। एसएसपी दीपक कुमार ने कहा कि आलू फेंकने वाले किसानों और वाहनों की पहचान हो गई हैं। इन लोगों के खिलाफ उचित धाराओं के तहत केस दर्ज करके कार्रवाई की जाएगी।

{ यह भी पढ़ें:- अखिलेश यादव की बढ़ी मुश्किलें, HC ने सरकार से मांगी बंगले में तोड़फोड़ की रिपोर्ट }

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शनिवार सुबह मुख्यमंत्री आवास से लेकर विधानसभा और राजभवन के सामने सड़कों पर आलू ही आलू नजर आए। यूपी के आलू किसानों में कीमतों को लेकर काफी आक्रोश है। इसी का विरोध करने के लिए किसानों ने विरोध का ये तरीका अपनाया और सड़कों पर लाखों टन आलू बिखेर दिये। बता दें कि प्रदेश में आलू किसानों में इसलिए नाराजगी है कि यूपी में किसानों को आलू का प्रति किलो सिर्फ चार रुपये…
Loading...