फर्श पर तड़पती रही प्रसूता, मदद के लिए नहीं आया महिला स्टाफ

हिसार: हरियाणा में एक बार फिर से इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला देखने को मिला है। सोमवार को शहीद हसन खां मेडिकल कॉलेज में गर्भवती महिला को संशाधनों के अभाव में मजबूरी में खुली में फर्श पर बच्चे को जन्म देना पड़ा। महिला फर्श पर तड़पती रही, लेकिन मेडिकल का स्टाफ महिला की सहायता के लिए आगे नहीं आया।




खेड़ला के तौफीक ने बताया कि सोमवार को वह अपनी पत्नी मिसकीना को डिलीवरी कराने शहीद हसन खां मेवाती मेडिकल कॉलेज लेकर गया था। मिसकीना दर्द से परेशान थी। मिसकीना कॉलेज के मुख्य द्वार पर जाकर लेट गई। कॉलेज कर्मचारियों ने डिलीवरी वार्ड तक पहुंचाने के लिए व्हील चेयर तक नहीं दी।




तौफीक ने बार-बार कर्मचारियों से गुहार लगाई कि वह उनकी पत्नी को डिलीवरी वार्ड तक पंहुचाने के लिए व्हील चेयर मुहैया करा दें, लेकिन कर्मचारियों ने कोई सुनवाई नहीं की। तौफीक ने बताया कि मजबूरी में मिसकीना को दर्द बढ़ गया तथा ज्यादा खून जाने लगा। अंत में मिसकीना ने फर्श पर ही खुले स्थान पर बच्चे को जन्म दिया। कॉलेज कर्मचारियों की लापरवाही निरंतर बढ़ रही है।