हिमाचल विधानसभा चुनाव: ससुर ने दामाद को दी मात, कांग्रेस से लड़े थे चुनाव

himachal-election

Father In Law Defeated Son In Law In Himachal Pradesh Assembly Elections

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भारी जीत हासिल हुई है। यहां के चुनावी रुझानों में सबसे दिलचस्प परिणाम सोलन विधानसभा सीट पर रहे। इस सीट पर ससुर ने अपने ही दामाद को हरा दिया। सोलन की आरक्षित सीट पर कांग्रेस से धनीराम शांडिल और भाजपा से उनके दामाद डॉक्टर राजेश कश्यप लड़ रहे थे।

फौज से रिटायर होने के बाद राजनीति में आए धनीराम शांडिल 1999 और 2004 में लोकसभा के सदस्य चुने गए थे। इसके बाद वह वीरभद्र सरकार में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री भी रहे। वहीं दामाद राजेश कश्यप नौकरी छोड़कर राजनीति में आए थे और यह उनका पहला विधानसभा चुनाव था। धनीराम शांडिल को उनके राजनीतिक अनुभव का लाभ मिला और उन्होंने अपने दामाद को हराकर बीजेपी को जोरदार झटका दिया।

हिमाचल प्रदेश में भाजपा ने बड़ी जीत हासिल की है। 68 सीटों में से भाजपा 40 से ज्यादा सीट जीत चुकी है और पूर्ण बहुमत हासिल किया है। इसके बावजूद सोलन की सभी पांच सीटों पर कांग्रेस के उम्मीदवार अपनी जीत सुनिश्चित करने में कामयाब हुए। यहां भाजपा का जादू नहीं चला।

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को भारी जीत हासिल हुई है। यहां के चुनावी रुझानों में सबसे दिलचस्प परिणाम सोलन विधानसभा सीट पर रहे। इस सीट पर ससुर ने अपने ही दामाद को हरा दिया। सोलन की आरक्षित सीट पर कांग्रेस से धनीराम शांडिल और भाजपा से उनके दामाद डॉक्टर राजेश कश्यप लड़ रहे थे। फौज से रिटायर होने के बाद राजनीति में आए धनीराम शांडिल 1999 और 2004 में लोकसभा के सदस्य चुने…