उन्नाव गैंगरेप मामला: माखी थानाइंचार्ज सस्पेंड, विधायक के चार गुर्गे गिरफ्तार

bjp mla rape unnaw police
पीड़ित परिवार
उन्नाव। उन्नाव में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे गैंगरेप के आरोप मामले में पीड़िता के पिता की जेल में संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इस मामले मे लापरवाही बरतने वाले माखी थाना इंचार्ज आनंद भदौरिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया, साथ दबंग विधायक के चार गुर्गों को गिरफ्तार कर ​लिया गया है। बता दें कि विधायक व उसके भाई की गुण्डई से आहत होकर पीड़ित परिवार के नौ लोग रविवार को मुख्यमंत्री आवास के सामने…

उन्नाव। उन्नाव में भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर लगे गैंगरेप के आरोप मामले में पीड़िता के पिता की जेल में संदिग्ध हालात में मौत हो गई। इस मामले मे लापरवाही बरतने वाले माखी थाना इंचार्ज आनंद भदौरिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया, साथ दबंग विधायक के चार गुर्गों को गिरफ्तार कर ​लिया गया है। बता दें कि विधायक व उसके भाई की गुण्डई से आहत होकर पीड़ित परिवार के नौ लोग रविवार को मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह करने पहुंचे, लेकिन वहां पहुंचे पुलिसकर्मियों ने उन्हे बचा लिया और फिर उन्नाव पुलिस के संपर्क कर पीड़ितों को उनके घर भेज दिया।

वो घर पहुंचे ही थे कि देर रात उन्हे सूचना मिली कि जेल में बंद पीड़िता के पिता पप्पू सिंह की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। पीड़ित परिवार ने विधायक व उसके भाई पर जेल के अंदर ही पिता को मौत के घाट उतारने का आरोप लगाया गया है, बावजूद इसके सरकार ने आरोपी विधायक व उसके दबंग भाई के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए थाना इंचार्ज को संस्पेंड करने के साथ ही उसके चार गुर्गों को गिरफ्तार किया है। ऊधर विधायक कुलदीप सेंगर इस मामले से खुद का कोई मतलब न बताते हुए उन्हे साजिशन फंसाने की बात कह रहे है।

{ यह भी पढ़ें:- अब भाजपा विधायकों ने उपवास के दौरान की पेटपूजा }

ये है पूरा मामला-

बता दें कि करीब पांच दिन पहले युवती के पिता को विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई जय सिंह ने अपने गुर्गों के साथ न्यायलय में लंबित मुकदमे को वापस लेने से इंकार करने पर जमकर पीटा था। पुलिस ने पीड़ित पक्ष की सुनवाई के बजाय उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए पीड़िता के पिता को जेल भेज दिया था। अपने पिता की पिटाई और रेप के मामले मे कार्यवाही ना होने से पीड़िता ने लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के सामने रविवार को आत्मदाह का प्रयास किया था।

पुलिस ने किसी तरह सभी को काबू में किया और उन्हें गौतमपल्ली थाने लेकर पहुंची। पीड़िता का आरोप है कि उन्नाव के भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके भाई ने दुष्कर्म किया और शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी है। मामले की शिकायत पुलिस से करने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। न्याय न मिलने से आहत होकर वह परिवार संग आत्मदाह के लिए मजबूर हुई।

{ यह भी पढ़ें:- उन्नाव रेप केस में आरोपी भाजपा विधायक को सीबीआई ने किया गिरफ्तार }

Loading...