बीएचयू में भड़की हिंसा, मारपीट आगजनी तोड़फोड़ के साथ ही चले पेट्रोल बम

bhu case
बीएचयू में भड़की हिंसा, मारपीट आगजनी तोड़फोड़ के साथ ही चले पेट्रोल बम

बनारस। बनारस हिंदू युनिवर्सिटी में सोमवार रात जमकर बवाल हुआ। नाराज छात्रों ने डाक्टरों जमकर पीट दिया। उनका आरोप था कि मरीजों को बेड नही मिल रहे है। बाद में वहां के डाक्टरों को इसकी जानकारी हुई तो वो भी लामबंद हो गए और फिर दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई हालाकि उस वक्त मामला शांत हो गया।

Fight Against Bhu Junior Doctor And Youth Fight Again :

बताया जाता है कि देर रात फिर से बवाल बढ़ गया। छात्रों ने एकत्रित होकर जमकर उपद्रव किया। नाराज छात्रों ने एलडी गेस्ट हाउस के पास पुलिस बूथ को जलाने के साथ ही हिंदी विभाग के पास आगजनी की। एसबीआई के एटीएम को तोड़ डाला और दो बाइक जला दीं। इसके बाद भी छात्र शांत नही हुए और पेट्रोल बम चलाए गए और फायरिंग भी की। पथराव में आधा दर्जन से अधिक छात्र घायल हो गए।

नाराज छात्रों ने बिरला चौराहे पर भी आगजनी की। बवाल की सूचना मिलते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। आनन—फानन में सूचना पाकर मौके पर नौ थानों की पुलिस फोर्स, सीओ भेलूपुर और एसडीएम के साथ ही एक कंपनी पीएसी तीन वज्र वाहन के साथ पहुंच गई और माहौल को शांत करने का प्रयास करने लगी। देर रात तक छात्र लाइट बंद करके तोड़फोड़ और गुरिल्ला युद्ध की तरह पथराव करते रहे। जिसके चलते फोर्स आगे नहीं बढ़ सकी।

बता दें कि सर सुंदरलाल अस्पताल के छठवें तल पर मेल सर्जरी वार्ड में एक मरीज को भर्ती कराने को लेकर विवाद हुआ था। मरीज के साथ आए छात्र ने वार्ड में मौजूद एक जूनियर डॉक्टर से बेड दिलवाने की बात कही। इस पर डॉक्टर ने बेड न होने की जानकारी दी, जिस पर नोकझोंक शुरू हो गई। आरोप है कि इसी दौरान छात्रों ने जूनियर डॉक्टर की पिटाई कर दी और तोडफोड़ करने लगे।

बाद में छात्र बाहर आए और इसकी शिकायत करने जा रहे थे कि परिसर में ही बने मेडिकल छात्रावास के बाहर कुछ लोगों ने उनकी पिटाई कर दी। छात्रों के मुताबिक मारपीट करने वालों में जूनियर डॉक्टर शामिल थे। फिलहाल दोनों तरफ से दोनों तरफ से एक दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की गई है।

बनारस। बनारस हिंदू युनिवर्सिटी में सोमवार रात जमकर बवाल हुआ। नाराज छात्रों ने डाक्टरों जमकर पीट दिया। उनका आरोप था कि मरीजों को बेड नही मिल रहे है। बाद में वहां के डाक्टरों को इसकी जानकारी हुई तो वो भी लामबंद हो गए और फिर दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई हालाकि उस वक्त मामला शांत हो गया।बताया जाता है कि देर रात फिर से बवाल बढ़ गया। छात्रों ने एकत्रित होकर जमकर उपद्रव किया। नाराज छात्रों ने एलडी गेस्ट हाउस के पास पुलिस बूथ को जलाने के साथ ही हिंदी विभाग के पास आगजनी की। एसबीआई के एटीएम को तोड़ डाला और दो बाइक जला दीं। इसके बाद भी छात्र शांत नही हुए और पेट्रोल बम चलाए गए और फायरिंग भी की। पथराव में आधा दर्जन से अधिक छात्र घायल हो गए।नाराज छात्रों ने बिरला चौराहे पर भी आगजनी की। बवाल की सूचना मिलते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। आनन—फानन में सूचना पाकर मौके पर नौ थानों की पुलिस फोर्स, सीओ भेलूपुर और एसडीएम के साथ ही एक कंपनी पीएसी तीन वज्र वाहन के साथ पहुंच गई और माहौल को शांत करने का प्रयास करने लगी। देर रात तक छात्र लाइट बंद करके तोड़फोड़ और गुरिल्ला युद्ध की तरह पथराव करते रहे। जिसके चलते फोर्स आगे नहीं बढ़ सकी।बता दें कि सर सुंदरलाल अस्पताल के छठवें तल पर मेल सर्जरी वार्ड में एक मरीज को भर्ती कराने को लेकर विवाद हुआ था। मरीज के साथ आए छात्र ने वार्ड में मौजूद एक जूनियर डॉक्टर से बेड दिलवाने की बात कही। इस पर डॉक्टर ने बेड न होने की जानकारी दी, जिस पर नोकझोंक शुरू हो गई। आरोप है कि इसी दौरान छात्रों ने जूनियर डॉक्टर की पिटाई कर दी और तोडफोड़ करने लगे।बाद में छात्र बाहर आए और इसकी शिकायत करने जा रहे थे कि परिसर में ही बने मेडिकल छात्रावास के बाहर कुछ लोगों ने उनकी पिटाई कर दी। छात्रों के मुताबिक मारपीट करने वालों में जूनियर डॉक्टर शामिल थे। फिलहाल दोनों तरफ से दोनों तरफ से एक दूसरे पर मारपीट का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की गई है।