1. हिन्दी समाचार
  2. फिल्म निर्देशक अभिनव कश्यप बोले- ‘दबंग’ के बाद सलमान और उनके भाईयों ने किया परेशान

फिल्म निर्देशक अभिनव कश्यप बोले- ‘दबंग’ के बाद सलमान और उनके भाईयों ने किया परेशान

Film Director Abhinav Kashyap Said Salman And His Brothers Upset After Dabangg

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की दुःखद मौत के बाद से सोशल मीडिया से लेकर बालीवुड तक में इनसाइडर बनाम आउटसाइडर की बहस छिड़ गई है। इसमें एक्ट्रेस कंगना रानावत से लेकर शेखर कपूर तक ने अपनी भड़ास निकाली है। इस बीच जाने माने अभिनेता अनुराग कश्यप के भाई और ‘दबंग’ फ़िल्म के निर्देशक अभिनव कश्यप भी सामने आए हैं। अभिनव ने सुशांत की आत्महत्या की उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। अभिनव ने सलमान ख़ान और उनके परिवार के ऊपर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि मैं सुशांत सिंह राजपूत की तरह हार नहीं मानने वाला हूं।

पढ़ें :- मेरे नाम का बेजा इस्तेमाल करना बंद करें रिपब्लिकन समूह — डोनाल्ड ट्रंप

सुशांत की सुसाइड के बाद निर्देशक अभिनव कश्यप ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट लिखी है। इस पोस्ट में अभिनव ने बताया कि फिल्म इंडस्ट्री में रॉ टैलेंट को कैसे बर्बाद किया जाता है। वहीं, उन्होंने ये भी बताया कि सलमान ख़ान और उनके परिवार ने कैसे उन्हें प्रताड़ित किया। अभिनव ने लिखा कि ‘अरबाज ख़ान और दबंग के 10 साल बाद की मेरी कहानी है। 10 साल पहले में दबंग 2 से इसलिए अलग हो गया क्योंकि कि अरबाज ख़ान, सोहेल खान परिवार के साथ मिलकर मेरे कैरियर पर नियंत्रण करने की कोशिश कर रहे थे। अरबाज ख़ान ने श्री अष्टविनायक फिल्मों के साथ मेरी दूसरी परियोजना को तोड़ दिया था।’ इसके अलावा उन्होंने सलमान पर भी सीधे आरोप लगाए हैं।
अभिनव ने लिखा कि ‘दुर्भाग्य से सच मेरे पक्ष में है और मैं सुशांत सिंह राजपूत की तरह हार नहीं मानने वाला हूं। मैं तब तक लड़ता रहूंगा जब तक मैं उनका या अपना अंत नहीं देख लेता हूं । पूरी सहिष्णुता के साथ । यह वापस लड़ने का समय है।’

अनुभव ने बॉलीवुड में काम कर रहे लोगों को लेकर भी बहुत कुछ लिखा है। उन्होंने लिखा- ‘सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या ने वह बड़ी समस्या को हमारे सामने लाकर रख दिया है, जिससे हम सब लड़ रहे हैं। वास्तव में क्या है जो एक व्यक्ति को आत्महत्या के लिए मजबूर कर सकता है? मौत का डर इस समस्या का एक छोटा-सा हिस्सा है। जैसे-मीटू आंदोलन एक कहीं ज़्यादा बड़ी परेशानी थीं।’अनुभव ने अपने पोस्ट में दावा किया है टेलैंट मैनेजमेंट एजेंसियां रॉ टेलैंट को रोकती हैं। इसके अलावा कैसे लोगों को कुच्रक में फंसाया जाता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...