फिल्म रिव्यू: अपने मूव से हैरत में डाल रहें है टाइगर, शानदार है ‘मुन्ना माइकल’

फिल्म का नाम: मुन्ना माइकल
डायरेक्टर: शब्बीर खान
करेक्टर: टाइगर श्रॉफ, नवाजुद्दीन सिद्दीकी, निधि अग्रवाल, रोनित रॉय
समय: 2 घंटा 19 मिनट
सर्टिफिकेट: U/A
स्टार: 3 स्टार 

मुंबई। टाइगर श्राफ स्टारर मुन्ना माइकल आज बड़े पर्दे पर रिलीज हो गयी। टाइगर इस फिल्म में भी अपनी पुरानी छाप छोडते दिख रहें है। हमेशा की तरफ इस फिल्म में भी टाइगर अपने शानदार मुव से दर्शकों को हैरत में डालते दिख रहें हैं। फिल्म की उसी पुराने बॉलीवुड ढर्रे पर चलती दिख रही है कहानी में कुछ भी नयापन नहीं है हालांकि स्क्रीनप्ले पर अच्छी तरह से काम किया गया है। फिल्म के मुख्य किरदारों का बात करें तो टाइगर के साथ नवाजुद्दीन सिद्दीकी और नई नवेली अभिनेत्री निधि अग्रवाल ने भी अपने काम को बखूबी निभाया है। फिल्म की कमजोर कड़ी की बात करें तो स्क्रीप्ट ही है।

{ यह भी पढ़ें:- फिल्म के प्रमोशन के दौरान छेड़छाड़ का शिकार हुई ये एक्ट्रेस, तमाशा देखते रहे टीम मेम्बर }

यह है कहानी
यह कहानी शुरुआत होती है मुंम्बई के मुन्ना (टाइगर श्रॉफ) से जो बचपन में कूड़े के ढेर में माइकल (रोनित रॉय) को मिलते है। माइकल उन दिनो बैकडांसर के रूप में काम करता है। लेकिन ज्यादा उम्र हो जाने के कारण उसे ट्रूप से निकाल दिया जाता है। जो उसकी रोजी-रोटी का साधन है। मुन्ना को भी डांस का बहुत शोक होता है, इसलिए वह अपने सपने को पूरा करने के लिए दिल्ली आता है। जहाँ उसकी मुलाकात गैंगस्टर महिंदर फौजी (नवाजुद्दीन सिद्दीकी) से होती है। जो एक फौजी की भूमिका में है। नवाज को एक क्लब डांसर डोली (निधी अग्रवाल) से प्यार हो जाता है। जिससे इंप्रेस करने के लिए नवाज, मुन्ना (टाइगर श्रॉफ) की मदद लेता है। मुन्ना के पास नवाज डांस सीखते है। कहानी में ट्विस्ट्स जब आता है तब मुन्ना और डॉली को एक-दूसरे से प्यार हो जाता है।

क्यों देखें फिल्म 

{ यह भी पढ़ें:- 'धड़क' का पोस्टर लांच, शानदार दिख रहे हैं ईशान व जाह्नवी }

इस फिल्म में आपको “टाइगर श्रॉफ” का डांस, एक्शन, और स्टंड, देखने को मिलेगा, साथ ही आपको “नवाजुद्दीन सिद्दीकी” का नया लुक देखने को मिलेगा। जो आपको हसाने के लिए मजूबर कर देगा। “निधि अग्रवाल” की बॉलीवुड फिल्मो में फर्स्ट टाइम एंट्री के साथ शानदार एक्टिंग भी देखने को मिलेगी।

कमिया 

फिल्म डायलॉग्स में कुछ भी नयापन नहीं है। गाने फिल्म कि रफ़्तार को कमजोर कर देते है। फिल्म की कहानी बहुत आसानी से समझ में आ जाएगी। फिल्म की एडिटिंग काफी जर्क से भरी है। फिल्म देखकर यह समझ नहीं आता कि आखिर फिल्म में दिखाना क्या चाहते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- केन्द्रीय गृह मंत्री से मिले बॉलीवुड के खिलाड़ी, ट्विटर पर आया ये जवाब }

Loading...