1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. वित्त मंत्री ने दिया कटौती वापस लेने का निर्देश कहा, भूल वश हो गयी थी घोषणा

वित्त मंत्री ने दिया कटौती वापस लेने का निर्देश कहा, भूल वश हो गयी थी घोषणा

सरकार ने कल के अपने किये गये फैसले व बदलाव को वापस ले लिया है जिसकी जानकारी केंद्रीय वित्तमंत्री निर्माला सीतारमण ने खुद ट्वीट करके दी है। उन्होंने लिखा है कि ये गलतीवश हो गया था। अब सभी छोटी बचतों पर पुरानी यानी 2020-21 की दरें लागू होंगी।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। कल वित्त मंत्रालय ने बचत खातों में जमा राशि पर वार्षिक ब्याज को 4 फीसदी से घटाकर 3.5 फीसदी कर दिया था। इतना ही नहीं मंत्रालय ने पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) पर अब तक 7.1 फीसदी वार्षिक ब्याज को घटाकर भी 6.4 फीसदी कर दिया था। एक साल के लिए जमा राशि पर तिमाही ब्याज दर को 5.5 फीसदी से घटाकर 4.4 फीसदी किया गया था।

पढ़ें :- Uttarakhand Assembly Election 2022 : सपा ने 30 प्रत्याशियों की पहली सूची की जारी, देखें उम्मीदवारों की पूरी लिस्ट

बुजुर्गों को बचत योजनाओं पर अब 7.4 फीसदी की जगह केवल 6.5 फीसदी तिमाही ब्याज देने की घोषणा की गई थी। कहा गया था कि नई दरें 1 अप्रैल से लागू हो जाएंगी और 30 जून 2021 तक प्रभावी रहेंगी। ये कुछ बदलाव थे जो कल मंत्रालय के द्वारा किये गये थे।

पढ़ें :- Republic day 2022: दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड का रिहर्सल कल से शुरु, परेड का रूट पिछले साल की तरह छोटा होगा

लेकिन आज सरकार ने कल के अपने किये गये फैसले व बदलाव को वापस ले लिया है जिसकी जानकारी केंद्रीय वित्तमंत्री निर्माला सीतारमण ने खुद ट्वीट करके दी है। उन्होंने लिखा है कि ये गलतीवश हो गया था। अब सभी छोटी बचतों पर पुरानी यानी 2020-21 की दरें लागू होंगी।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...