जानिए कैसे एसएमएस से पता चलेगा उत्पाद असली है या नकली

जानिए कैसे एसएमएस से पता चलेगा उत्पाद असली है या नकली
जानिए कैसे एसएमएस से पता चलेगा उत्पाद असली है या नकली

Find Out If The Product Is Real Or Fake Through An Sms

नई दिल्ली। बाजार में नकली उत्पादों से परेशान लोगों के लिए अच्छी खबर है। दुकान पर आप जब भी कोई सामान खरीदने जाते हैं, तो आपको यह पता नहीं चल पाता है कि वह असली है या नकली। हालांकि अब ये काम आप आसानी से कर सकेंगे। अमेरिकी कंपनी फार्मासेक्योर ने भारत समेत कुछ देशों में संबंधित कंपनियों के साथ मिलकर इस दिशा में पहल की है। शुरूआत में कंपनी ने यह सुविधा दवाओं के मामले में शुरू की थी। बाद में रोजमर्रा के उपयोग के सामान (एफएमसीजी), इलेक्ट्रानिक्स, सौंदर्य प्रसाधन जैसे उत्पादों के लिये यह सेवा शुरू की गई। इसके लिए कंपनी ने प्रोडक्टसेक्योर के नाम से एक अलग इकाई बनाई।

बता दें कि फार्मासिक्योर ने SMS के जरिये उत्पाद के असली या नकली होने की जानकारी हासिल करने की सुविधा दवाओं के लिए शुरू की थी। हालांकि बाद में कंपनी ने रोजमर्रा के उपयोग के सामान (FMCG), इलेक्ट्रोनिक और सौंदर्य प्रसाधन जैसे उत्पादों के लिए भी यह सेवा शुरू की है। इसके लिए कंपनी ने एक अलग इकाई प्रोडक्टसिक्योर बनाई है।

SMS के जरिये मिलेगी प्रोडक्ट की जानकारी

  • मोबाइल ऐप पर भी उत्पाद का बारकोड डालकर इसका पता लगा सकते हैं। इसके अलावा आपके पास वेबसाइट पर जाकर उत्पाद के असली-नकली होने का पता कर सकने का विकल्प भी है।
  • इसके अलावा बैच संख्या, वस्तु के खराब (एक्सपायरी) होने की तारीख का भी उस पर जिक्र होता है। साथ ही हम उस पर फोन नंबर डालते हैं। ग्राहक संबंधित उत्पाद के कोड को टाइप कर अगर उस नंबर पर एसएमएस भेजता है तो उसके मोबाइल पर तुरंत संदेश आता है कि वह उत्पाद असली है या नकली।
  • फार्मासिक्योर के अध्यक्ष और मुख्य कार्यपालक अधिकारी नकूल पसरीचा से पता चला कि भारत समेत पूरी दुनिया में नकली उत्पादों की संख्या बढ़ रही है। इसका न सिर्फ ब्रांड की विश्वसनीयता पर असर पड़ता है, बल्कि कंपनी की आय भी प्रभावित होती है। उन्होंने कहा कि नकली उत्पादों की वजह से सरकार को भी करोड़ों रुपये का नुकसान होता है। यही नहीं, नकली उत्पाद स्वास्थ्य के लिए भी खतरनाक साबित होते हैं।
नई दिल्ली। बाजार में नकली उत्पादों से परेशान लोगों के लिए अच्छी खबर है। दुकान पर आप जब भी कोई सामान खरीदने जाते हैं, तो आपको यह पता नहीं चल पाता है कि वह असली है या नकली। हालांकि अब ये काम आप आसानी से कर सकेंगे। अमेरिकी कंपनी फार्मासेक्योर ने भारत समेत कुछ देशों में संबंधित कंपनियों के साथ मिलकर इस दिशा में पहल की है। शुरूआत में कंपनी ने यह सुविधा दवाओं के मामले में शुरू की थी।…