1. हिन्दी समाचार
  2. BJP विधायक के सिर पर ईनाम रखने वाले BSP नेता पर FIR

BJP विधायक के सिर पर ईनाम रखने वाले BSP नेता पर FIR

Fir Registered Against Former Bsp Mla Vijay Yadav

By रवि तिवारी 
Updated Date

लखनऊ। मुगलसराय से बीजेपी विधायक साधना सिंह का सिर काटकर लाने वाले को 50 लाख रुपये इनाम देने की घोषणा करने वाले बहुजन समाज पार्टी के नेता विजय यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। यह एफआईआर मुरादाबाद के पुलिस लाइंस थाने में दर्ज की गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पढ़ें :- होटल में एंट्री लेने से पहले भारतीय खिलाड़ियों को करना होगा ये जरूरी काम

बीते 21 जनवरी को पूर्व विधायक विजय यादव ने ऐलान किया था कि अगर 48 घंटे में साधना सिंह ने बीएसपी प्रमुख मायावती और देश की सभी महिलाओं से माफी नहीं मांगी, तो वे उनका सिर कलम करके लाने वाले को पचास लाख रुपए का इनाम देंगे। यादव ने यह भी कहा था कि वे यह रकम चंदा इकठ्ठा करके जुटाएंगे। पूर्व विधायक के इस बयान के बाद सियासी गलियारे में हड़कंप मच गया।

विजय यादव ने कहा, “बीजेपी विधायक साधना सिंह ने बीएसपी प्रमुख के खिलाफ निंदनीय शब्दों का प्रयोग किया। हम मांग करते हैं कि साधना को 48 घंटे के अंदर बीएसपी मुखिया मायावती और देश की सभी महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए।” पूर्व विधायक ने यह भी कहा था कि यदि 48 घंटे में साधना सिंह ने माफी नहीं मांगी तो बीएसपी कार्यकर्ता बड़ा आंदोलन करेंगे।

यह था विवादित बयान

बता दें कि मुगलसराय क्षेत्र से बीजेपी विधायक साधना सिंह ने चंदौली जिले के करणपुरा गांव में शनिवार को आयोजित किसान कुंभ कार्यक्रम में मायावती का ज़िक्र करते हुए कहा था, ‘हमको तो उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ना तो महिला लगती हैं और ना ही पुरुष। इन्हें तो अपना सम्मान ही समझ में नहीं आता। जिस महिला का इतना बड़ा चीर हरण हुआ हो, लेकिन कुर्सी पाने के लिए उसने अपने सारे सम्मान को बेच दिया। ऐसी महिला मायावती का हम इस कार्यक्रम के माध्यम से तिरस्कार करते हैं।’

पढ़ें :- दिल्ली घटना के पीछे काम कर रही है कोई अदृश्य शक्ति, शिवसेना सांसद ने केन्द्र सरकार को ठहराया जिम्मेदार

महिला आयोग ने भेजा नोटिस

राष्ट्रीय महिला आयोग ने बयान पर साधना सिंह को नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है। बता दें कि साधना सिंह ने टिप्पणी के बाद विवाद बढ़ने पर एक प्रेस नोट जारी कर कहा था, ‘मेरे द्वारा दिए गए भाषण के दौरान मेरी मंशा किसी को अपमानित करने की नहीं थी, बल्कि मेरी मंशा सिर्फ यही थी कि 2 जून 1995 को गेस्ट हाउस कांड में बीजेपी ने जो मायावती की मदद की थी, उसे याद दिलाया जाए। अगर इन शब्दों से किसी को कष्ट हुआ है तो मैं खेद प्रकट करती हूं।’

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...