मॉब लिंचिंग पर ओपन लेटर लिखने वाले 49 सेलेब्रिटीज पर FIR दर्ज, अनुराग कश्यप का भी नाम शामिल

mob lyching
मॉब लिंचिंग पर ओपन लेटर लिखने वाले 49 सेलेब्रिटीज पर FIR दर्ज, अनुराग कश्यप का भी नाम शामिल

मुंबई। कुछ समय पहले देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग पर चिंता जाहिर करते हुए कई सेलेब्रिटीज ने पीएम मोदी को ओपन लेटर लिखा था। जिसके चलते अब ‘मॉब लिंचिंग’ मामले पर पीएम मोदी को ओपन लेटर लिखने वाले 49 सेलेब्रिटीज पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है, जिनमें बॉलीवुड डायरेक्टर अनुराग कश्यप, मणि रत्नम और अपर्णा सेन के नाम भी शामिल हैं। इन सभी 49 सेलेब्रिटीज पर गुरुवार को केस दर्ज हुआ है।

Fir Registered On 49 Celebrities Writing Open Letter On Mob Lynching Anurag Kashyaps Name Also Included :

बता दें स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा ने दो महीने पहले याचिका दायर की थी, उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) सूर्य कांत तिवारी ने इन सभी 49 सेलेब्रिटीज पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। सुधीर कुमार ओझा ने अपनी याचिका में सभी 49 सेलेब्रिटीज पर ये आरोप लगाया था कि उन्होंने देश की छवि को धूमिल करने और प्रधानमंत्री के प्रभावशाली प्रदर्शन को कम करने की कोशिश की है। साथ ही, ओझा ने याचिका में ये भी कहा कि उन्होंने अलगाववादी प्रवृत्तियों का समर्थन किया है।

ताते चलें कि, ओपन लेटर में लिखा था कि मुस्लिमों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों की लिंचिंग को तुरंत रोका जाना चाहिए। वहीं, पुलिस ने ये भी बताया कि भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई, जिसमें राजद्रोह, सार्वजनिक उपद्रव से संबंधित, धार्मिक भावनाओं को आहत करना और शांति भंग करने के इरादे से अपमान करना शामिल है।

मुंबई। कुछ समय पहले देश में बढ़ रही मॉब लिंचिंग पर चिंता जाहिर करते हुए कई सेलेब्रिटीज ने पीएम मोदी को ओपन लेटर लिखा था। जिसके चलते अब 'मॉब लिंचिंग' मामले पर पीएम मोदी को ओपन लेटर लिखने वाले 49 सेलेब्रिटीज पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है, जिनमें बॉलीवुड डायरेक्टर अनुराग कश्यप, मणि रत्नम और अपर्णा सेन के नाम भी शामिल हैं। इन सभी 49 सेलेब्रिटीज पर गुरुवार को केस दर्ज हुआ है। बता दें स्थानीय वकील सुधीर कुमार ओझा ने दो महीने पहले याचिका दायर की थी, उनकी याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (सीजेएम) सूर्य कांत तिवारी ने इन सभी 49 सेलेब्रिटीज पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया। सुधीर कुमार ओझा ने अपनी याचिका में सभी 49 सेलेब्रिटीज पर ये आरोप लगाया था कि उन्होंने देश की छवि को धूमिल करने और प्रधानमंत्री के प्रभावशाली प्रदर्शन को कम करने की कोशिश की है। साथ ही, ओझा ने याचिका में ये भी कहा कि उन्होंने अलगाववादी प्रवृत्तियों का समर्थन किया है। ताते चलें कि, ओपन लेटर में लिखा था कि मुस्लिमों, दलितों और अन्य अल्पसंख्यकों की लिंचिंग को तुरंत रोका जाना चाहिए। वहीं, पुलिस ने ये भी बताया कि भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई, जिसमें राजद्रोह, सार्वजनिक उपद्रव से संबंधित, धार्मिक भावनाओं को आहत करना और शांति भंग करने के इरादे से अपमान करना शामिल है।