बैंगलोर : विमानवाहक पोत में लगी आग, नौसेना अधिकारी की मौत

ins vikrmaditya
बैंगलोर : विमानवाहक पोत में लगी आग, नौसेना अधिकारी की मौत

नई दिल्ली। कर्नाटक में शुक्रवार को विमानवाहक पोत में आग लग गई। जिसमें नौसेना के एक अधिकारी की मौत हो गई। बता दें कि ये घटना आइएनएस विक्रमादित्य में हुई हैं। कर्नाटक के कारवार में विमानवाहक पोत आइएनएस विक्रमादित्य में आग लगने की घटना की जांच की जा रही है।

Fire In Aircraft Carrier Ins Vikramaditya One Officer Dead :

फिलहाल घटना के बाद नौसेना ने घटना की जांच के लिए बोर्ड ऑफ इंक्वायरी का को आदेश दे दिया हैं। आइएनएस विक्रमादित्य में गंभीर क्षति को रोकने के लिए चालक ने आग पर काबू पाया था। बता दें कि नौसेना में आइएनएस विक्रमादित्य को 16 नवंबर 2013 को शामिल किया गया था।

बता दें कि आइएनएस युद्धपोत 44500 टन भारी है। जिसकी लंबाई 284 मीटर और ऊंचाईं 60 मीटर है। तुलानात्मक तौर पर आइएनएस की लंबाई लगभग तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर तथा ऊंचाई लगभग 22 मंजिल इमारत के बराबर है। ये लगातार 100 दिन तक समुद्र में रह सकता है। इसमें 1.6 हजार लोग एक साथ सवार हो सकते हैं। जानकारों का कहना है कि पोत में एक साथ 24 मिग-29के विमान ले जाए जा सकते हैं।

नई दिल्ली। कर्नाटक में शुक्रवार को विमानवाहक पोत में आग लग गई। जिसमें नौसेना के एक अधिकारी की मौत हो गई। बता दें कि ये घटना आइएनएस विक्रमादित्य में हुई हैं। कर्नाटक के कारवार में विमानवाहक पोत आइएनएस विक्रमादित्य में आग लगने की घटना की जांच की जा रही है। फिलहाल घटना के बाद नौसेना ने घटना की जांच के लिए बोर्ड ऑफ इंक्वायरी का को आदेश दे दिया हैं। आइएनएस विक्रमादित्य में गंभीर क्षति को रोकने के लिए चालक ने आग पर काबू पाया था। बता दें कि नौसेना में आइएनएस विक्रमादित्य को 16 नवंबर 2013 को शामिल किया गया था। बता दें कि आइएनएस युद्धपोत 44500 टन भारी है। जिसकी लंबाई 284 मीटर और ऊंचाईं 60 मीटर है। तुलानात्मक तौर पर आइएनएस की लंबाई लगभग तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर तथा ऊंचाई लगभग 22 मंजिल इमारत के बराबर है। ये लगातार 100 दिन तक समुद्र में रह सकता है। इसमें 1.6 हजार लोग एक साथ सवार हो सकते हैं। जानकारों का कहना है कि पोत में एक साथ 24 मिग-29के विमान ले जाए जा सकते हैं।