Update: दिल्ली होटल अग्निकाण्ड में अब तक 17 की मौत,  मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश

a

नई दिल्ली। दिल्ली के करोलबाग स्थित होटल अर्पित पैलेस में मंगलवार सुबह लगी भीषण आग के चलते अब तक 17 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं कुछ लोग जख्मी हुए हैं। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि श्इस आग में 17 लोगों की मौत हो गई है और दो लोग घायल हैं।

Fire In Arpit Palace Hotel At Karol Bag :

अधिकतर लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। जो लोग लापरवाही के दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं। बताया जाता है कि आग लगने का कारण अभी पता किया जा रहा है।

घटना के बाद 30 फायर टेंडर मौके पर पहुंच गए थे। रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है। गलियारे पर लकड़ी की चौखट थी जिसके कारण लोग इसका उपयोग नहीं कर सकते थे। 2 लोग इमारत से कूद भी गए थे। दिल्ली होटल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बालन मणि ने बताया कि यह घटना डक्टिंग में आग लगने के कारण हुई।

जिसके कारण यह आग होटल के अन्य कमरों में फैल गया। यहां सभी मानदंडों का पालन किया गया था। निरीक्षण के बाद ही लाइसेंस जारी किया जाता है। दुर्घटना कहीं भी हो सकती है। आग लगने के बाद होटल के आसपास अफरा- तफरी मच गई। वहीं कई लोगों ने होटल की खिड़कियों से लोगों को छलांग लगाते देखा।

अब तक 35 से ज्यादा लोगों का रेस्क्यू किया गया है। ब्रिगेड की हाइड्रोलिक सीढिय़ां भी समय पर नहीं खुल पाई। फायर ब्रिगेड के जेसी मिश्रा ने बताया कि अभी भी कुछ लोग फंसे हो सकते हैं इसलिए पूरे होटल को चेक किया जा रहा है।

नई दिल्ली। दिल्ली के करोलबाग स्थित होटल अर्पित पैलेस में मंगलवार सुबह लगी भीषण आग के चलते अब तक 17 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं कुछ लोग जख्मी हुए हैं। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है। इस मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि श्इस आग में 17 लोगों की मौत हो गई है और दो लोग घायल हैं।अधिकतर लोगों की मौत दम घुटने से हुई है। जो लोग लापरवाही के दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। मजिस्ट्रेटियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं। बताया जाता है कि आग लगने का कारण अभी पता किया जा रहा है।घटना के बाद 30 फायर टेंडर मौके पर पहुंच गए थे। रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है। गलियारे पर लकड़ी की चौखट थी जिसके कारण लोग इसका उपयोग नहीं कर सकते थे। 2 लोग इमारत से कूद भी गए थे। दिल्ली होटल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष बालन मणि ने बताया कि यह घटना डक्टिंग में आग लगने के कारण हुई।जिसके कारण यह आग होटल के अन्य कमरों में फैल गया। यहां सभी मानदंडों का पालन किया गया था। निरीक्षण के बाद ही लाइसेंस जारी किया जाता है। दुर्घटना कहीं भी हो सकती है। आग लगने के बाद होटल के आसपास अफरा- तफरी मच गई। वहीं कई लोगों ने होटल की खिड़कियों से लोगों को छलांग लगाते देखा।अब तक 35 से ज्यादा लोगों का रेस्क्यू किया गया है। ब्रिगेड की हाइड्रोलिक सीढिय़ां भी समय पर नहीं खुल पाई। फायर ब्रिगेड के जेसी मिश्रा ने बताया कि अभी भी कुछ लोग फंसे हो सकते हैं इसलिए पूरे होटल को चेक किया जा रहा है।