सियासी घमासान का असर, अब होर्डिंग से आउट हुए शिवपाल सिंह यादव




फिरोजाबाद। समाजवादी पार्टी के कुनबे में चल रहे सियासी घमासान का असर फ़िरोज़ाबाद जिले में साफ दिखाई दे रहा है। दशहरा-दीपावली की शुभकामनाओं के लिए शहर में लगाए गए पोस्टर सैफई परिवार के इसी घमासान से जोड़ कर देखे जा रहे हैं। पोस्टरों से शिवपाल यादव की तस्वीर गायब है, जबकि वह सपा के प्रदेशाध्यक्ष है। वहीं सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव व अखिलेश यादव की तस्वीर होर्डिंग में लगी नजर आ रही है।




फिरोजाबाद जिले में नवरात्रि, दशहरा और दीपावली के होर्डिंग समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा लगाए गए है। शहर में रात को नवरात्र, दशहरा और दीवापली की शुभकामनाएं देते हुए सपा के बडे -बड़े होर्डिंग्स लगाए गए हैं। ये होर्डिंग शहर में ही नहीं बल्कि सपा के जिला कार्यालय पर भी लगाए गए है।

इन होर्डिंग्स में सांसद अक्षय यादव और एमएलसी डा. दिलीप यादव की बड़ी फोटो लगी है, जबकि सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सांसद रामगोपाल यादव की फोटो भी लगी है, लेकिन सपा के प्रदेशाध्यक्ष शिवपाल यादव की फोटो न होना पार्टी में चर्चा का विषय बन गया। इसको सैफई परिवार में चल रही जंग से जोड़ कर देखा जा रहा है।

सांसद रामगोपाल के समर्थकों ने प्रदेशाध्यक्ष होने के बाद भी शिवपाल यादव को होर्डिंग्स से आउट कर यह संदेश दिया कि इस जिले में रामगोपाल यादव का ही वजूद है, सपा के जिला कार्यालय के बाहर लगी होर्डिंग तक पर भी न तो शिवपाल यादव का नाम है और न ही उनकी फोटो लगी है। जबकि शिवपाल यादव तो समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष है, कार्यालय के बाहर लगी ये होर्डिंग गुटबंदी की ओर इशारा तो कर ही रही है।

समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव व्यापर प्रकोष्ठ राजनारायण मुन्ना ने कहा कि हमें भी अभी मालूम हुआ है कि इस तरह के होर्डिंग लगे है ये प्रिंट करने वाले की गलती है, पार्टी में कोई मतभेद नहीं है हम सभी एक है।




Loading...