बोइंग ने भारतीय वायुसेना को सौंपी अपाचे हैलीकॉप्टर की पहली खेप

1
बोइंग ने भारतीय वायुसेना को सौंपी अपाचे हेलिकॉप्टर की पहली खेप

नई दिल्ली। संयुक्त राज्य अमेरिका ने शनिवार को भारतीय वायुसेना को अपाचे गार्जियन अटैक हेलिकॉप्टर की पहली खेप सौंप दी। एरिजोना स्थित बोइंग प्रोडक्शन फैसिलिटी में रखे गए एक कार्यक्रम में एयर मार्शल एएस बुटोला ने पहला हेलिकॉप्टर स्वीकार किया। इस मौके पर अमेरिकी सरकार के कई अफसर भी मौजूद थे। पहली खेप इसी साल जुलाई में भारत पहुंचाई जाएगी।

First Consignment Of Apache Helicopter Handed By Boeing To Iaf :

बता दें, भारत ने साल 2015 में अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी बोइंग से 22 अपाचे खरीदने का सौदा किया था। 2.5 अरब डॉलर (करीब 17.5 हजार करोड़ रुपए) के इस सौदे में 15 चिनूक हेलिकॉप्टर भी शामिल थे। बोइंग के मुताबिक, अपाचे दुनिया के सबसे अच्छे लड़ाकू हेलिकॉप्टर माने जाते हैं। यह खासतौर पर भारतीय वायुसेना की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। कम ऊंचाई पर उड़ने की क्षमता की वजह से यह पहाड़ी क्षेत्रों में छिपकर वार करने में सक्षम हैं।

वहीं, भारत अपाचे का इस्तेमाल करने वाला 14वां देश होगा। इससे वायुसेना की ताकत में काफी इजाफा होगा। इसी साल फरवरी में अमेरिका से खरीदे गए चिनूक हेलिकॉप्टर की पहली खेप वायुसेना के बेड़े में शामिल हो चुकी है। 4 चिनूक हेलिकॉप्टर गुजरात में कच्छ के मुंद्रा एयरपोर्ट पहुंचे थे।

नई दिल्ली। संयुक्त राज्य अमेरिका ने शनिवार को भारतीय वायुसेना को अपाचे गार्जियन अटैक हेलिकॉप्टर की पहली खेप सौंप दी। एरिजोना स्थित बोइंग प्रोडक्शन फैसिलिटी में रखे गए एक कार्यक्रम में एयर मार्शल एएस बुटोला ने पहला हेलिकॉप्टर स्वीकार किया। इस मौके पर अमेरिकी सरकार के कई अफसर भी मौजूद थे। पहली खेप इसी साल जुलाई में भारत पहुंचाई जाएगी। बता दें, भारत ने साल 2015 में अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी बोइंग से 22 अपाचे खरीदने का सौदा किया था। 2.5 अरब डॉलर (करीब 17.5 हजार करोड़ रुपए) के इस सौदे में 15 चिनूक हेलिकॉप्टर भी शामिल थे। बोइंग के मुताबिक, अपाचे दुनिया के सबसे अच्छे लड़ाकू हेलिकॉप्टर माने जाते हैं। यह खासतौर पर भारतीय वायुसेना की जरूरतों को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। कम ऊंचाई पर उड़ने की क्षमता की वजह से यह पहाड़ी क्षेत्रों में छिपकर वार करने में सक्षम हैं। वहीं, भारत अपाचे का इस्तेमाल करने वाला 14वां देश होगा। इससे वायुसेना की ताकत में काफी इजाफा होगा। इसी साल फरवरी में अमेरिका से खरीदे गए चिनूक हेलिकॉप्टर की पहली खेप वायुसेना के बेड़े में शामिल हो चुकी है। 4 चिनूक हेलिकॉप्टर गुजरात में कच्छ के मुंद्रा एयरपोर्ट पहुंचे थे।