अब आधुनिक राडार के साथ उड़ान भरेगा जगुआर, एक साथ कई टारगेट करेगा तबाह

3198051 (1)

हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने जगुआर फाइटर प्लेन को आधुनिक राडार टेक्नॉलॉजी एईएसई से तैयार किया है. जगुआर लड़ाकू विमान ने पहली बार अत्याधुनिक एईएसए राडार के साथ उड़ान भरी है. इससे जगुआर की दुश्मन के इलाके में अंदर तक जाकर ठिकानों को तबाह करने की क्षमता बढ़ेगी.

जगुआर ड्रेन थ्री को एचएएल ने इंडियन एयर फोर्स के लिए अपग्रेड किया. प्लेन में मल्टी टार्गेट ट्रैकिंग फ्रीक्वेंसी (कई टारगेट एक साथ ट्रैक करना), इंटरलीव्ड मोड ऑफ ऑपरेशन, हाई एक्यूरेसी एंड रेज्यूलूशन, हायर बैंडविथ ऑफ ऑपरेशन जैसे सिस्टम को अपग्रेड किया गया है.

{ यह भी पढ़ें:- अटल जी के निधन पर देशभर में 7 दिन का राष्ट्रीय शोक, आधा झुका रहेगा तिरंगा }

एचएएल और इजरायल की फर्म की मदद से तैयार किए गए राडार से एक साथ कई निशाने साध सकते हैं. अब तक देश में किसी लड़ाकू विमान में यह राडार नहीं था. राफेल और बोइंग के नए लड़ाकू विमानों में इसका इस्तेमाल किया जा रहा है. एईएसए रडार के अलावा जगुआर विमान 28 और नए 28 नए सेंसर से भी लैस होंगे.

हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने जगुआर फाइटर प्लेन को आधुनिक राडार टेक्नॉलॉजी एईएसई से तैयार किया है. जगुआर लड़ाकू विमान ने पहली बार अत्याधुनिक एईएसए राडार के साथ उड़ान भरी है. इससे जगुआर की दुश्मन के इलाके में अंदर तक जाकर ठिकानों को तबाह करने की क्षमता बढ़ेगी. जगुआर ड्रेन थ्री को एचएएल ने इंडियन एयर फोर्स के लिए अपग्रेड किया. प्लेन में मल्टी टार्गेट ट्रैकिंग फ्रीक्वेंसी (कई टारगेट एक साथ ट्रैक करना), इंटरलीव्ड मोड ऑफ ऑपरेशन, हाई एक्यूरेसी एंड…
Loading...