बिहार के नए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की 5 अनजानी बातें

Susheel-kumar-modi-sushil

Five Facts You Probably Did Not Know About Sushil Kumar Modi Bihar Deputy Chief Minister Bjp Leader New Cm Of Bihar Next Cm Of Bihar

बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को राज्य के उपमुख्यमंत्री की शपथ ली. नीतीश कुमार ने 2014 में बीजेपी से अलग होकर महागठबंधन की घोषणा की थी. लेकिन सीबीआई रेड़ के बाद नीतीश ने आरजेडी और कांग्रेस से अलग होने की घोषणा करने में भी देरी नहीं की. इससे पहले भी नीतीश और सुशील मोदी की सरकार बिहार की सत्ता में विराजमान हो चुकी है.

सुशील मोदी के बार में आपको ये पांच तथ्य जानने चाहिए-
  1. सुशील मोदी लालू यादव को पिछले 45 साल से जानते हैं. 1973 में एक छात्रनेता के रूप में मोदी पटना यूनिवर्सिटी छात्रसंघ में महासचिव बने थे. लालू तब पटना यूनिवर्सिटी के छात्रसंघ में अध्यक्ष थे. मोदी ने लालू के बार में कहा ‘उन्हें शूरुआत से ही भ्रष्टाचारियों, अपराधियों असामाजिक तत्वों का साथ पसंद था.’
  2. मोदी ने जेपी आंदोलन में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. 1974 में वह बिहार प्रदेश छात्र संघर्ष के सदस्य बने. इसी संगठन ने बिहार में जेपी आंदोलन की शुरुआत की थी. मोदी पांच बार मीसा एक्ट में गिरफ्तार भी हुए. आपातकाल के दौरान मोदी ने 24 महीने जेल में बिताए.
  3. मोदी बॉटनी के छात्र थे. उन्हें उम्मीद थी कि वो ग्रेजुएशन के एग्जाम में फेल हो जाएंगे. क्योंकि मोदी राजनीतिक गतिविधियों में काफी सक्रिय थे. लेकिन जब एग्जाम का रिजल्ट आया तो सब चौंक गए क्योंकि इसमें सुशील मोदी ने अपनी मेहनत के बल पर सेकंड पॉजिशन हासिल की थी.
  4. सुशील मोदी की शादी जेसी जॉर्ज कैथिलिक लड़की से हुई. जेसी मोदी से पांच साल छोटी हैं. दोनों की मुलाकात 1985 में एक ट्रेन में हुई थी. आज दोनों के दो लड़के हैं.
  5. मोदी ने 1985 में 70,000 का बैंक लोन लेकर एक कंप्यूटर इंस्टीट्यूट खोला था. लेकिन ढाई साल बाद जब मोदी की राजनीति में वापसी हुई तो मजबूरन उन्हें इंस्टीट्यूट बंद करना पड़ा. राजनीति के साथ कंप्यूटर और गेजेट्स में भी मोदी की खासी रूचि है.
बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को राज्य के उपमुख्यमंत्री की शपथ ली. नीतीश कुमार ने 2014 में बीजेपी से अलग होकर महागठबंधन की घोषणा की थी. लेकिन सीबीआई रेड़ के बाद नीतीश ने आरजेडी और कांग्रेस से अलग होने की घोषणा करने में भी देरी नहीं की. इससे पहले भी नीतीश और सुशील मोदी की सरकार बिहार की सत्ता में विराजमान हो चुकी है. सुशील मोदी के बार में आपको ये पांच तथ्य जानने चाहिए-…