बोरियों में मिला जलती नोटों का ढेर, काले धन को छुपाने के लिए किया गया ये काम

बरेली। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काले धन पर रोक लगाने के लिए जबसे 500 और 1000 के नोट पर पाबंदी की घोषणा की है तबसे जिन्होंने बोरों में नोट भरके रखा है उनकी शामत आ गयी है। काले धन को ठिकाने लगाने के लिए कोशिशें शुरू हो चुकी हैं जी हाँ बरेली में नोटों का जलता हुआ ढेर मिला है।

पुलिस के अनुसार जलने से बची कतरन 50, 100, 500 और 1000 के नोट की लग रही हैं। कागज की गुणवत्ता हल्की होने से शक है कि यह जाली भी हो सकते हैं। परसाखेड़ा के तमाम प्रतिष्ठानों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस इनकी फुटेज खंगाल रही है।




बरेली के सीबीगंज की परसा खेड़ा रोड नंबर एक पर 500 और 1000 के छुटे छोटे कतरन जैसे टुकड़े मिले। इन कतरन को बोरों में भरकर लाया गया और वहां ले जा कर उन कतरन को जला दिया गया। सूचना मिलने के बाद करोङो रुपये की घपलेबाज़ी की बरामदगी के बाद वहां पूरे इलाके में हल्ला मचा हुआ है। फील्ड यूनिट ने जले नोटों के नमूने और कतरन विधि विज्ञान प्रयोगशाला जांच के लिए भेज दिये हैं।

जली और बची कतरन से अनुमान लगाया जा रहा है कि रकम कई करोड़ रही होगी। दरअसल यहां से गुजर रहे एक व्यक्ति के हाथ नोट की कतरन लगने पर मामले ने तूल पकड़ा। सीबीगंज थाना इंस्पेक्टर राकेश सिंह पहले इसे मजाक समझते रहे लेकिन चौकी इंचार्ज अरुण सिंह ने पुष्टि की तो खुद एसएसपी जोगेंद्र कुमार मौके पर पहुंच गए।

पुलिस के अनुसार जलने से बची कतरन 50, 100, 500 और 1000 के नोट की लग रही हैं। नोट के कागज हलके होने से शक है कि यह नोट जाली भी हो सकते हैं। परसाखेड़ा के तमाम प्रतिष्ठानों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस इनकी फुटेज की जांच कर रही है।

आस्था सिंह की रिपोर्ट