पश्चिम बंगाल पंचायत चुनाव: हिंसा के दौरान पांच लोगों की मौत, सैकड़ो घायल

पश्चिम बंगाल। प.बंगाल में हो रहे पंचायत चुनाव में वोटिंग के दौरान सोमवार को जमकर हिंसा हुई। इस दौरान यहां पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि सैकड़ो लोग घायल हुए है। हिंसा के दौरान यहां लोगों ने बैलेट बाक्स में आग लगाने के साथ ही कई गाड़ियों को फूंकने के बाद चुनाव सम्पन्न करा रहे कर्मचारियों के साथ मारपीट की।

Five Killed At Panchayat Chunat At West Bengal :

बता दें कि हिंसा के दौरान दक्षिण 24 परगना में 3 लोगों की जान चली गई। जबकि उत्तर 24 परगना में 1 और मुर्शिदाबाद में 1 की मौत हुई। बता दें कि पंचायत चुनाव की कुल 58,692 सीटों में से तृणमूल कांग्रेस 20,163 सीटों पर निर्विरोध जीत चुकी हैं। यह लड़ाई वामपंथी दल और कांग्रेस के लिए अपनी मौजूदगी दर्ज कराने का संघर्ष है। ज​बकि बीजेपी खुद को विपक्षी पार्टी स्थापित करने पर लगी हुई है।

बता दें कि वोटिंग सुबह सात बजे से शुरू हुई, जो शाम पांच बजे तक चलेगी। मतदान करने के लिए सुबह से ही लम्बी—लम्बी लाइनें लग गई थी। आज 621 जिला परिषदों, 6157 पंचायत समितियों के लिए 20 जिलों की 31,827 ग्राम पंचायतों में मतदान किया जा रहा है।
बता दें कि सुबह 11 बजे तक पंचायत चुनाव में 26.28 फीसदी वोटिंग हो गई थी, जिसके दोपहर 12:35 बजे के आसपास भड़की हिंसा में दक्षिण 24 परगना में 3, उत्तर 24 परगना में 1 की मौत और मुर्शिदाबाद में 1 एक की जान चली गई। इसके अलावा बिलकांडा में भाजपा समर्थकों पर चाकू से हमला किया गया, जिसका आरोप टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगा। मरने वालों में सीपीआई कार्यकर्ता और उसकी पत्नी भी शामिल है।

बता दें कि इसस पहले 9 बजे कूच बिहार में दो गुटों के बीच बवाल हो गया, जिसमें करीब बीस लोग घायल हो गए। मौके पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने मामला शांत कराया और पुलिस ने सभी घायलों को एमजेएन अस्पताल में भर्ती कराया। बताया जा रहा है कि ये लोग मतदान करने जा रहे थे, तभी रास्ते में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने इन्हे रोंक लिया और लाठी—डंडो से पीट दिया।

बता दें कि मतदान के दौरान आसनसोल जिले के रानीगंज में बांसरा इलाके से बमबारी भी हुई। यहां वोटिंग शुरू होने से पहले ही बम विस्फोट हुआ, जिसके बाद से इलाके में तनाव व्याप्त है। हालाकि वहां बम किसने फेंका, इसकी पुलिस पड़ताल कर रही है। बता दें कि नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान हुई हिंसा को लेकर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, कांग्रेस और वाममोर्चा के नेताओं ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए थे।

बता दें कि यहां मतगणना 17 मई को होगी। इससे पहले चुनाव प्रचार अभियान काफी कड़वाहट भरा रहा। तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भाजपा, कांग्रेस और वाम दलों के बीच तीखी झड़प भी हुई थी, जिसमे कई मुकदमे भी दर्ज हुए। नामांकन प्रक्रिया के दौरान सत्तारूढ़ तृणमूल का आतंक का शासन उजागर हुआ। हालाकि तृणमूल ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया और आरोप लगाया कि विपक्ष का जनाधार नहीं है और वह चुनाव से बचना चाहता है।​ जिसके चलते उस पर आधारहीन आरोप लगाए जा रहे है।

पश्चिम बंगाल। प.बंगाल में हो रहे पंचायत चुनाव में वोटिंग के दौरान सोमवार को जमकर हिंसा हुई। इस दौरान यहां पांच लोगों की मौत हो गई, जबकि सैकड़ो लोग घायल हुए है। हिंसा के दौरान यहां लोगों ने बैलेट बाक्स में आग लगाने के साथ ही कई गाड़ियों को फूंकने के बाद चुनाव सम्पन्न करा रहे कर्मचारियों के साथ मारपीट की। बता दें कि हिंसा के दौरान दक्षिण 24 परगना में 3 लोगों की जान चली गई। जबकि उत्तर 24 परगना में 1 और मुर्शिदाबाद में 1 की मौत हुई। बता दें कि पंचायत चुनाव की कुल 58,692 सीटों में से तृणमूल कांग्रेस 20,163 सीटों पर निर्विरोध जीत चुकी हैं। यह लड़ाई वामपंथी दल और कांग्रेस के लिए अपनी मौजूदगी दर्ज कराने का संघर्ष है। ज​बकि बीजेपी खुद को विपक्षी पार्टी स्थापित करने पर लगी हुई है। बता दें कि वोटिंग सुबह सात बजे से शुरू हुई, जो शाम पांच बजे तक चलेगी। मतदान करने के लिए सुबह से ही लम्बी—लम्बी लाइनें लग गई थी। आज 621 जिला परिषदों, 6157 पंचायत समितियों के लिए 20 जिलों की 31,827 ग्राम पंचायतों में मतदान किया जा रहा है। बता दें कि सुबह 11 बजे तक पंचायत चुनाव में 26.28 फीसदी वोटिंग हो गई थी, जिसके दोपहर 12:35 बजे के आसपास भड़की हिंसा में दक्षिण 24 परगना में 3, उत्तर 24 परगना में 1 की मौत और मुर्शिदाबाद में 1 एक की जान चली गई। इसके अलावा बिलकांडा में भाजपा समर्थकों पर चाकू से हमला किया गया, जिसका आरोप टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगा। मरने वालों में सीपीआई कार्यकर्ता और उसकी पत्नी भी शामिल है। बता दें कि इसस पहले 9 बजे कूच बिहार में दो गुटों के बीच बवाल हो गया, जिसमें करीब बीस लोग घायल हो गए। मौके पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने मामला शांत कराया और पुलिस ने सभी घायलों को एमजेएन अस्पताल में भर्ती कराया। बताया जा रहा है कि ये लोग मतदान करने जा रहे थे, तभी रास्ते में टीएमसी कार्यकर्ताओं ने इन्हे रोंक लिया और लाठी—डंडो से पीट दिया। बता दें कि मतदान के दौरान आसनसोल जिले के रानीगंज में बांसरा इलाके से बमबारी भी हुई। यहां वोटिंग शुरू होने से पहले ही बम विस्फोट हुआ, जिसके बाद से इलाके में तनाव व्याप्त है। हालाकि वहां बम किसने फेंका, इसकी पुलिस पड़ताल कर रही है। बता दें कि नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान हुई हिंसा को लेकर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, कांग्रेस और वाममोर्चा के नेताओं ने एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाए थे। बता दें कि यहां मतगणना 17 मई को होगी। इससे पहले चुनाव प्रचार अभियान काफी कड़वाहट भरा रहा। तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भाजपा, कांग्रेस और वाम दलों के बीच तीखी झड़प भी हुई थी, जिसमे कई मुकदमे भी दर्ज हुए। नामांकन प्रक्रिया के दौरान सत्तारूढ़ तृणमूल का आतंक का शासन उजागर हुआ। हालाकि तृणमूल ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताया और आरोप लगाया कि विपक्ष का जनाधार नहीं है और वह चुनाव से बचना चाहता है।​ जिसके चलते उस पर आधारहीन आरोप लगाए जा रहे है।