मोदी लहर के बावजूद एनडीए के ये पांच मंत्री नहीं जीत पाए अपनी सीट

pm modi minister
मोदी लहर के बावजूद एनडीए के ये पांच मंत्री नहीं जीत पाए अपनी सीट

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में एक तरफ तो भाजपा ने प्रचंड बहुमत हासिल करते हुए विपक्षी पार्टियों को चारो खाने चित कर दिया है। चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद राजनीति के पंडितों ने तो यहां तक कह दिया कि ये जीत उम्मीदवारों की नहीं बल्कि मोदी की है। इस प्रचंड बहुमत के बावजूद भी एनडीए के पांच ऐसे मंत्री हैं, जो अपनी सीट नहीं बचा पाए और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा. बता दें कि साल 2014 में 282 सीटों जीतने वाली भाजपा ने इस बार और धमाकेदार जीत दर्ज की और कुल 300 से ज्यादा सीटें अपने नाम कर ली। यह पहला चुनाव है जब भारतीय जनता पार्टी को 41 फीसदी वोट पहली बार मिले हैं और इस तरह से करीब 48 साल बाद बीजेपी पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई है।

Five Modi Minister Have Defeated In General Election 2019 :

अपनी सीट गंवाने वालों में पहले नंबर पर मोदी सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगा राम अहिर है। उन्हे कांग्रेस के सुरेश नारायण धनोरकर ने चंद्रापुर सीट से शिकस्त दी है। वहीं केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा की हार ने भी सबको सोंचने पर मजबूर कर दिया है। मनोज सिन्हा को गाजीपुर सीट से बसपा के उम्मीदवार अफजाल अंसारी ने हराया है।

वहीं तमिलनाडु की कन्याकुमारी सीट पर वित्त राज्य मंत्री पॉन राधाकृष्णन को भी कांग्रेस उम्मीदवार एच वसंत कुमार से चुनाव हार गए। उधर केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस भी मोदी लहर में अपनी सीट नहीं बचा पाए। उन्हे कांग्रेस के हिबी हिडेन ने शिकस्त दी है। अमृतसर सीट से को कांग्रेस के गुरजीत सिंह आहुजा ने हराया है।

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों में एक तरफ तो भाजपा ने प्रचंड बहुमत हासिल करते हुए विपक्षी पार्टियों को चारो खाने चित कर दिया है। चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद राजनीति के पंडितों ने तो यहां तक कह दिया कि ये जीत उम्मीदवारों की नहीं बल्कि मोदी की है। इस प्रचंड बहुमत के बावजूद भी एनडीए के पांच ऐसे मंत्री हैं, जो अपनी सीट नहीं बचा पाए और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा. बता दें कि साल 2014 में 282 सीटों जीतने वाली भाजपा ने इस बार और धमाकेदार जीत दर्ज की और कुल 300 से ज्यादा सीटें अपने नाम कर ली। यह पहला चुनाव है जब भारतीय जनता पार्टी को 41 फीसदी वोट पहली बार मिले हैं और इस तरह से करीब 48 साल बाद बीजेपी पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई है। अपनी सीट गंवाने वालों में पहले नंबर पर मोदी सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगा राम अहिर है। उन्हे कांग्रेस के सुरेश नारायण धनोरकर ने चंद्रापुर सीट से शिकस्त दी है। वहीं केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा की हार ने भी सबको सोंचने पर मजबूर कर दिया है। मनोज सिन्हा को गाजीपुर सीट से बसपा के उम्मीदवार अफजाल अंसारी ने हराया है। वहीं तमिलनाडु की कन्याकुमारी सीट पर वित्त राज्य मंत्री पॉन राधाकृष्णन को भी कांग्रेस उम्मीदवार एच वसंत कुमार से चुनाव हार गए। उधर केंद्रीय मंत्री केजे अल्फोंस भी मोदी लहर में अपनी सीट नहीं बचा पाए। उन्हे कांग्रेस के हिबी हिडेन ने शिकस्त दी है। अमृतसर सीट से को कांग्रेस के गुरजीत सिंह आहुजा ने हराया है।