असम में बाढ़ का कहर, नौ जिलों के करीब 3 लाख लोग प्रभावित

asam-2

गुवाहाटी । कोरोना महामारी के साथ असम में बाढ़ से 09 जिलों के लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। लगातार बरसात के कारण असम के धेमाजी, नगांव, होजाई, दरंग, नलबारी, ग्वालपारा, वेस्ट कार्बी आंग्लांग, डिब्रूगढ़, तिनसुकिया समेत 09 जिलों के 2,94,170 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। राज्य आपदा विभाग (एएसडीएमए) की ओर जारी आंक़ड़ों के अनुसार असम के 09 जिलों के 15 राजस्व सर्किल के 300 गांवों में निवास करने वाले 2,94,170 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

Flood Havoc In Assam Around 3 Lakh People Affected In Nine Districts :

जारी आंकड़ों के अनुसार ब्रह्मपुत्र नद जोरहाट जिले के निमातीघाट में और कपिली नदी नगांव जिला के कामरूप इलाके में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। शेष जिलों में अन्य नदियां चेतावनी लेवल पर बह रही है। बाढ़ के पानी में 21572.30 हेक्टर फसल पूरी तरह से पानी में डूब गई है। वहीं 91 राहत शिविर बनाए गए हैं। जबकि राहत सामग्री वितरित करने के लिए 15,977 शिविर बनाए गए हैं। बाढ़ में दो व्यक्तियों की मौत हो गई है। यह घटना ग्वालपारा जिला के लखीपुर और बालीजान घटी है। इलाके बाढ़ से 45,891 बड़े पशु, 23,236 छोटे तथा 40,725 पोल्ट्री प्रभावित हुए हैं।

बाढ़ से दरंग जिले में दो मकान बाढ़ में पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। राहत व बचाव कार्य में एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है। जबकि, 24 नावों को भी बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है। बाढ़ में फंसे 492 लोगों बचाकर सुरक्षित इलाकों में पहुंचाया गया। बाढ़ प्रभावितों के बीच 851.1 क्वींटल चावल, 157.32 क्वींटल दाल, 47.2 क्वींटल नमक और 4343.52 लीटर सरसों का तेल वितरित किया गया है। बाढ़ के दौरान कुछ इलाकों में सड़क, कलवर्ट, व कच्चे मकान पूरी तरह से ड़ूब कर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई इलाकों में नदियों के किनारे काफी कटाव भी हो रहा है जिसके चलते किसानों को काफी नुकसान हुआ है।

गुवाहाटी । कोरोना महामारी के साथ असम में बाढ़ से 09 जिलों के लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। लगातार बरसात के कारण असम के धेमाजी, नगांव, होजाई, दरंग, नलबारी, ग्वालपारा, वेस्ट कार्बी आंग्लांग, डिब्रूगढ़, तिनसुकिया समेत 09 जिलों के 2,94,170 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। राज्य आपदा विभाग (एएसडीएमए) की ओर जारी आंक़ड़ों के अनुसार असम के 09 जिलों के 15 राजस्व सर्किल के 300 गांवों में निवास करने वाले 2,94,170 से अधिक व्यक्ति बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। जारी आंकड़ों के अनुसार ब्रह्मपुत्र नद जोरहाट जिले के निमातीघाट में और कपिली नदी नगांव जिला के कामरूप इलाके में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। शेष जिलों में अन्य नदियां चेतावनी लेवल पर बह रही है। बाढ़ के पानी में 21572.30 हेक्टर फसल पूरी तरह से पानी में डूब गई है। वहीं 91 राहत शिविर बनाए गए हैं। जबकि राहत सामग्री वितरित करने के लिए 15,977 शिविर बनाए गए हैं। बाढ़ में दो व्यक्तियों की मौत हो गई है। यह घटना ग्वालपारा जिला के लखीपुर और बालीजान घटी है। इलाके बाढ़ से 45,891 बड़े पशु, 23,236 छोटे तथा 40,725 पोल्ट्री प्रभावित हुए हैं। बाढ़ से दरंग जिले में दो मकान बाढ़ में पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। राहत व बचाव कार्य में एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है। जबकि, 24 नावों को भी बाढ़ प्रभावित इलाकों में तैनात किया गया है। बाढ़ में फंसे 492 लोगों बचाकर सुरक्षित इलाकों में पहुंचाया गया। बाढ़ प्रभावितों के बीच 851.1 क्वींटल चावल, 157.32 क्वींटल दाल, 47.2 क्वींटल नमक और 4343.52 लीटर सरसों का तेल वितरित किया गया है। बाढ़ के दौरान कुछ इलाकों में सड़क, कलवर्ट, व कच्चे मकान पूरी तरह से ड़ूब कर क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई इलाकों में नदियों के किनारे काफी कटाव भी हो रहा है जिसके चलते किसानों को काफी नुकसान हुआ है।