विदेश मंत्रालय ने कहा-गलवां घाटी में कोई भी भारतीय सैनिक लापता या बंधक नहीं बनाया गया

army
विदेश मंत्रालय ने कहा-गलवां घाटी में कोई भी भारतीय सैनिक लापता या बंधक नहीं बनाया गया

नई दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख की गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद दावा किया जा रहा था कि चीनी सेना ने भारत के कुछ सैनिकों को बंधक बना लिया है और कुछ सैनिक लापता हुए हैं। हालांकि पहले भारतीय सेना और अब विदेश मंत्रालय ने इसे खारिज कर दिया है।

Foreign Ministry Said No Indian Soldier Was Missing Or Taken Hostage In Galvan Valley :

एक अमेरिकी न्यूज वेबसाइट ने दावा किया था कि चीन द्वारा भारतीय सैनिकों को बंधक बनाया गया है। इसके जवाब में बृहस्पतिवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मीडिया से बातचीत में साफ किया कि कोई भी भारतीय सैनिक लापता या बंधक नहीं है।

दरअसल भारत और चीन के बीच पांच दशकों में सबसे बड़े सैन्य टकराव के बाद दोनों देशों के बीच रिश्ते में कड़वाहट बढ़ गई है। लद्दाख की गलवां घाटी में 15 जून की रात चीनी सैनिकों की तरफ से धोखे से भारतीय सैनिकों पर हमला कर दिया गया था जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से कहा गया था कि देश की संप्रभुता और अखंडता सर्वोच्च है और इसे नुकसान पहुंचाने वाले को निर्णायक जवाब दिया जाएगा।

नई दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख की गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद दावा किया जा रहा था कि चीनी सेना ने भारत के कुछ सैनिकों को बंधक बना लिया है और कुछ सैनिक लापता हुए हैं। हालांकि पहले भारतीय सेना और अब विदेश मंत्रालय ने इसे खारिज कर दिया है। एक अमेरिकी न्यूज वेबसाइट ने दावा किया था कि चीन द्वारा भारतीय सैनिकों को बंधक बनाया गया है। इसके जवाब में बृहस्पतिवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मीडिया से बातचीत में साफ किया कि कोई भी भारतीय सैनिक लापता या बंधक नहीं है। दरअसल भारत और चीन के बीच पांच दशकों में सबसे बड़े सैन्य टकराव के बाद दोनों देशों के बीच रिश्ते में कड़वाहट बढ़ गई है। लद्दाख की गलवां घाटी में 15 जून की रात चीनी सैनिकों की तरफ से धोखे से भारतीय सैनिकों पर हमला कर दिया गया था जिसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से कहा गया था कि देश की संप्रभुता और अखंडता सर्वोच्च है और इसे नुकसान पहुंचाने वाले को निर्णायक जवाब दिया जाएगा।