1. हिन्दी समाचार
  2. जॉब्स
  3. Foreign Universities Campuses in India: भारत में खुलने जा रहे 500 विदेशी यूनिवर्सिटी, 2 फ़रवरी तक कर सकतें हैं…

Foreign Universities Campuses in India: भारत में खुलने जा रहे 500 विदेशी यूनिवर्सिटी, 2 फ़रवरी तक कर सकतें हैं…

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने भारत में विदेशी विश्वविद्यालयों (Foreign Universities) के परिसरों पर फीडबैक देने की समय सीमा बढ़ा दी है। आपको बता दें, सोमवार को भारत में विदेशी उच्च शिक्षण संस्थानों के परिसरों की स्थापना पर टिप्पणी, सुझाव और प्रतिक्रिया प्राप्त करने की अंतिम तिथि 3 फरवरी तक बढ़ाने की घोषणा की है।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

Foreign Universities Campuses in India: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने भारत में विदेशी विश्वविद्यालयों (Foreign Universities) के परिसरों पर फीडबैक देने की समय सीमा बढ़ा दी है।

पढ़ें :- NEIGRIHMS दे रहा सरकारी नौकरी पाने का बेहतरीन मौका, इस डेट तक कैंडिडेट्स करें अप्लाई

आपको बता दें, सोमवार को भारत में विदेशी उच्च शिक्षण संस्थानों के परिसरों की स्थापना पर टिप्पणी, सुझाव और प्रतिक्रिया प्राप्त करने की अंतिम तिथि 3 फरवरी तक बढ़ाने की घोषणा की है।

अंतिम तिथि बढ़ाकर की 3 फरवरी

यूजीसी सचिव रजनीश जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने यूजीसी (भारत में विदेशी उच्च शिक्षण संस्थानों के परिसरों की स्थापना और संचालन) विनियम, 2023 पर टिप्पणी/सुझाव/प्रतिक्रिया प्राप्त करने की अंतिम तिथि बढ़ाकर 3 फरवरी की है। रजनीश जैन ने आगे कहा कि यह अनुरोध किया जाता है कि टिप्पणियों/सुझावों/फीडबैक को 3 फरवरी 2023 तक ugcforeigncollaboration@gmail.com पर भेज दिया जाए।

भारत में खुलने जा रहे 500 विदेशी विश्वविद्यालयों के कैंपस

मालूम हो कि हाल ही में यूजीसी सचिव की ओर से जारी किए गए पत्र में बताया गया था कि केंद्र सरकार ने विदेशी शिक्षण संस्थाओं के कैंपस भारत में खोलने की मंजूरी दी है। पत्र के अनुसार इसे पूरी तरह से लागू करने से पहले सुझाव व फीडबैक लिए जा रहे हैं। बता दें कि भारत में 500 विदेशी विश्वविद्यालयों के कैंपस खुलने जा रहे हैं।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने इस संबंध में 7 पन्नों का एक ड्राफ्ट तैयार किया है। हालांकि यह सभी कैंपस देश में कहां-कहां खोले जाएंगे इसका फिलहाल कोई जानकारी सामने नहीं आई है।

पढ़ें :- बेसिक शिक्षा विभाग ने निपुण भारत मिशन प्रचार-प्रसार के लिये जारी किये  आवश्यक निर्देश 

गौरतलब है कि देश में लागू हुई नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत इसे अपनाने की बात सामने आ रही है। इस कदम के पीछे सरकार का मानना है कि इससे देश की हायर एजुकेशन की गुणवत्ता बढ़ेगी।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...