‘आप’ के पूर्व विधायक रामबीर शौकीन को भेजा गया जेल

नई दिल्ली| राष्ट्रीय राजधानी की एक अदालत ने दिल्ली के पूर्व विधायक रामबीर शौकीन को मंगलवार को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। उन्हें कथित तौर पर एक संगठित अपराध गिरोह चलाने के लिए महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) के तहत गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली पुलिस ने अदालत को बताया कि अब और पूछताछ के लिए आरोपी के हिरासत की जरूरत नहीं है, जिसके बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राकेश पंडित ने शौकीन को 15 दिसंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।




भगोड़ा घोषित किए गए शौकीन को बाहरी दिल्ली से रविवार शाम गिरफ्तार किया गया था। मामले में अन्य आरोपी जेल में बंद कुख्यात अपराधी नीरज बवाना, पंकज शेहरावत, सुनील राठी, राहुल डबास, नवीन डबास उर्फ बाली, नवीन हुड्डा उर्फ भांजा, अमित मलिक उर्फ भूरा, गुरप्रीत सिंह तथा दीपक डबास उर्फ दीपा के खिलाफ अक्टूबर 2015 में मकोका के तहत आरोप पत्र दाखिल किया गया है।

बवाना को बीते साल सात अप्रैल को पश्चिमी दिल्ली के मुंडका इलाके से गिरफ्तार किया गया था और फिलहाल आठ अन्य आरोपियों के साथ वह न्यायिक हिरासत में है। पुलिस ने अपने आरोप पत्र में कहा है कि सभी आरोपी एक आपराधिक गिरोह का संचालन कर रहे थे, जो जमीन कब्जाने, संपत्ति के विवादों का निपटारा करने सहित जबरन उगाही व हत्या जैसे वारदातों को अंजाम दे रहा था। इन सबका उद्देश्य आर्थिक लाभ कमाना था।

पुलिस ने बवाना को ‘अराजकता का प्रतीक’ तथा गिरोह का ‘सरगना’ करार दिया है, जबकि शौकीन गिरोह का ‘राजनीति चेहरा’ है।पुलिस ने आरोप लगाया है कि शौकीन इन अपराधियों की ताकत का इस्तेमाल विधानसभा चुनाव जीतने में कर रहा था, ताकि उसकी राजनीतिक महत्वकांक्षा और बढ़े तथा ज्यादा से ज्यादा आर्थिक लाभ हो।



Loading...