नागेश्वर राव को SC की फटकार, माफी याचिका खारिज कर लगाया एक लाख का जुर्माना

nageswer rao
नागेश्वर राव को SC की फटकार, माफी याचिका खारिज कर लगाया एक लाख का जुर्माना

नई दिल्ली। सीबीआई के पूर्व अंतरिम प्रमुख एम नागेश्वर राव को सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई है। सोमवार को उनके द्वारा दिए माफीनामे को खारिज करते हुए कोर्ट ने उन पर एक लाख रूपए का जुर्माना लगाया है। साथ ही कहा कि जब तक कोर्ट नहीं उठेगी तब तक नागेश्वर राव कोर्ट में एक कोने में बैठे रहें।

Former Cbi Chief Nageshwer Rao Present In Supreme Court In Ak Sharma Transfer Case :

बता दें कि कोर्ट से रोंक के बावजूद उन्होने पूर्व संयुक्त निदेशक ए के शर्मा का तबादला कर दिया था। वो बिहार के मुजफ्फरनगर में बालिका गृह मामले की जांच कर रहे थे। कोर्ट ने उन्हे फटकारते हुए कहा कि ऐसा कौन सा आसमान फट रहा था कि शर्मा का इतनी आनन—फानन में तबादला कर दिया गया।

नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में माफी मांगते हुए कहा,कि मैं गंभीरता से अपनी गलती महसूस करता हूं और बिना शर्त माफी मांगने के दौरान मैं विशेष रूप से कहता हूं कि मैंने जानबूझकर इस अदालत के आदेश का उल्लंघन नहीं किया। क्योंकि मैं सपने में भी इस अदालत के आदेश का उल्लंघन करने की सोच नहीं सकता।

कोर्ट ने न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करने से नाराज होकर सात फरवरी को सीबीआई को फटकार लगाई थी और राव को 12 जनवरी को व्यक्तिगत रूप से उसके समक्ष उपस्थित होने को कहा था।

नई दिल्ली। सीबीआई के पूर्व अंतरिम प्रमुख एम नागेश्वर राव को सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाई है। सोमवार को उनके द्वारा दिए माफीनामे को खारिज करते हुए कोर्ट ने उन पर एक लाख रूपए का जुर्माना लगाया है। साथ ही कहा कि जब तक कोर्ट नहीं उठेगी तब तक नागेश्वर राव कोर्ट में एक कोने में बैठे रहें। बता दें कि कोर्ट से रोंक के बावजूद उन्होने पूर्व संयुक्त निदेशक ए के शर्मा का तबादला कर दिया था। वो बिहार के मुजफ्फरनगर में बालिका गृह मामले की जांच कर रहे थे। कोर्ट ने उन्हे फटकारते हुए कहा कि ऐसा कौन सा आसमान फट रहा था कि शर्मा का इतनी आनन—फानन में तबादला कर दिया गया। नागेश्वर राव ने सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे में माफी मांगते हुए कहा,कि मैं गंभीरता से अपनी गलती महसूस करता हूं और बिना शर्त माफी मांगने के दौरान मैं विशेष रूप से कहता हूं कि मैंने जानबूझकर इस अदालत के आदेश का उल्लंघन नहीं किया। क्योंकि मैं सपने में भी इस अदालत के आदेश का उल्लंघन करने की सोच नहीं सकता। कोर्ट ने न्यायालय के आदेश का उल्लंघन करने से नाराज होकर सात फरवरी को सीबीआई को फटकार लगाई थी और राव को 12 जनवरी को व्यक्तिगत रूप से उसके समक्ष उपस्थित होने को कहा था।