कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां दिल्ली में दंगा भड़काने के मामले में गिरफ्तार

ishrat
कांग्रेस की पूर्व पार्षद इशरत जहां दिल्ली में दंगा भड़काने के मामले में गिरफ्तार

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा के दौरान दंगा भड़काने के मामले में कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं कोर्ट ने इशरत को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भी भेज दिया है। आपको बता दें कि इशरत जहां CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं, इसी दौरान उन पर दंगा भड़काने का आरोप लगा था। दिल्ली में अब तक दंगे को लेकर 630 लोग हिरासत में लिए गए।

Former Congress Councilor Ishrat Jahan Arrested In Delhi For Inciting A Riot :

बताया गया कि इशरत जहां पिछले 50 दिनों से दिल्ली के खुरेजी में CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं। पिछले रविवार को खुरेजी रोड जाम करने में भी इशरत जहां का नाम सामने आया था। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रविवार से हो रही हिंसा भड़कने के बाद शनिवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली में अधिकांश जगहों पर माहौल शांतिपूर्ण है। हालांकि दंगा ग्रस्त इलाकों को में भारी मात्रा में पुलिस बल तैना है और जिन जगहों पर हिंसा हुई है उनके आसपास के क्षेत्रों में ज्यादा लोगों के एकत्र होने या फिर बड़ी सभा पर अब भी प्रतिबंध है। बताया गया कि अबतक हुई हिंसा में 42 लोगों की मौत को चुकी है और सैकड़ों की संख्या में लोग घायल हैं।

बताया गया कि पुलिस ने अब तक 123 एफ़आईआर दर्ज की हैं और 630 लोगों को हिरासत में लिया। दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामलों की जांच के लिए दो एसआईटी बनाई है। चौबीस फरवरी के बाद से उत्तर पूर्व दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में सात हजार से ज्यादा सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा के दौरान दंगा भड़काने के मामले में कांग्रेस की पूर्व निगम पार्षद इशरत जहां को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं कोर्ट ने इशरत को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भी भेज दिया है। आपको बता दें कि इशरत जहां CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं, इसी दौरान उन पर दंगा भड़काने का आरोप लगा था। दिल्ली में अब तक दंगे को लेकर 630 लोग हिरासत में लिए गए। बताया गया कि इशरत जहां पिछले 50 दिनों से दिल्ली के खुरेजी में CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रही थीं। पिछले रविवार को खुरेजी रोड जाम करने में भी इशरत जहां का नाम सामने आया था। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रविवार से हो रही हिंसा भड़कने के बाद शनिवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली में अधिकांश जगहों पर माहौल शांतिपूर्ण है। हालांकि दंगा ग्रस्त इलाकों को में भारी मात्रा में पुलिस बल तैना है और जिन जगहों पर हिंसा हुई है उनके आसपास के क्षेत्रों में ज्यादा लोगों के एकत्र होने या फिर बड़ी सभा पर अब भी प्रतिबंध है। बताया गया कि अबतक हुई हिंसा में 42 लोगों की मौत को चुकी है और सैकड़ों की संख्या में लोग घायल हैं। बताया गया कि पुलिस ने अब तक 123 एफ़आईआर दर्ज की हैं और 630 लोगों को हिरासत में लिया। दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामलों की जांच के लिए दो एसआईटी बनाई है। चौबीस फरवरी के बाद से उत्तर पूर्व दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में सात हजार से ज्यादा सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।