पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव ने ‘क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी’ से दिया इस्तीफा, ये है मामला

kapil dev
पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव ने 'क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी' से दिया इस्तीफा, ये है मामला

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और लीजेंड खिलाड़ी कपिल देव ने मंगलवार को क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (CAC) के चेयरमैन के पद से इस्तीफा दे दिया है। वे समिति के दूसरे सदस्य हैं, जिन्होंने पद छोड़ा है। इससे पहले भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान शांता रंगास्वामी (Shantha Rangaswami) ने भी बोर्ड में कई जिम्मेदारियां संभालने का आरोप लगने के बाद इस्तीफा दे दिया था।

Former Indian Captain Kapil Dev Resigns From Cac This Is The Case :

खबरों के मुताबिक उन्होंने यह इस्तीफा बीसीसीआई के एथिक्स ऑफिसर डीके जैन द्वारा हिताों के टकराव (कनफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट) के संबंध में एक नोटिस भेजे जाने के बाद दिया है।

वर्ल्ड क्रिकेट के दिग्गज ऑलराउंडरों में शुमार कपिल देव (Kapil Dev) ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति के अध्यक्ष विनोद राय (Vinod Rai) और बीसीसीआई (BCCI) के सीईओ राहुल जौहरी (Rahul Johri) को भेजे ई-मेल में लिखा है, क्रिकेट सलाहकार समिति का हिस्सा बनना सुखद अनुभव रहा, खासकर सीनियर पुरुष टीम के हेड कोच का चयन करना खुशी की बात थी। मैं अब तुरंत प्रभाव से क्रिकेट सलाहकार समिति से इस्तीफा दे रहा हूं।

बीसीसीआई ने कपिल देव (Kapil Dev), शांता रंगास्वामी और अंशुमान गायकवाड़ को क्रिकेट सलाहकार समिति में शामिल किया था, जिसे टीम इंडिया के हेड कोच का चयन करना था। अब समिति से इस्तीफा देने के बाद कपिल देव और शांता रंगास्वामी को डीके जैन के नोटिस का जवाब देने की जरूरत नहीं है।

इन्होंने की थी शिकायत

बता दें कि मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (एमपीसीए) के लाइफ मेंबर संजीव गुप्ता ने सीएसी के तीनों सदस्यों के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी। संजीव गुप्ता की शिकायत के मुताबिक कपिल देव एक फ्लड लाइट कंपनी के मालिक, इंडियन क्रिकेट एसोसिएशन (आईसीए) के सदस्य और सीएसी के मेंबर हैं।

इसी तरह अंशुमान गायकवाड़ आईसीए के सदस्य हैं और एक एकेडमी के मालिक हैं। शांता रंगास्वामी आईसीए और सीएसी दोनों की सदस्य हैं॰ बीसीसीआई के नियम के अनुसार कोई भी व्यक्ति एक से अधिक पद पर नहीं रह सकता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीएसी में सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की जगह इन तीनों सदस्यों ने पिछले साल ली थी। इन्होंने सबसे पहले भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए हेड कोच का चयन किया था। इस साल अगस्त के महीने में इस पैनल ने रवि शास्त्री को दोबारा भारतीय क्रिकेट टीम का हेड कोच नियुक्त किया है।

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और लीजेंड खिलाड़ी कपिल देव ने मंगलवार को क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (CAC) के चेयरमैन के पद से इस्तीफा दे दिया है। वे समिति के दूसरे सदस्य हैं, जिन्होंने पद छोड़ा है। इससे पहले भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान शांता रंगास्वामी (Shantha Rangaswami) ने भी बोर्ड में कई जिम्मेदारियां संभालने का आरोप लगने के बाद इस्तीफा दे दिया था। खबरों के मुताबिक उन्होंने यह इस्तीफा बीसीसीआई के एथिक्स ऑफिसर डीके जैन द्वारा हिताों के टकराव (कनफ्लिक्ट ऑफ इंटरेस्ट) के संबंध में एक नोटिस भेजे जाने के बाद दिया है। वर्ल्ड क्रिकेट के दिग्गज ऑलराउंडरों में शुमार कपिल देव (Kapil Dev) ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति के अध्यक्ष विनोद राय (Vinod Rai) और बीसीसीआई (BCCI) के सीईओ राहुल जौहरी (Rahul Johri) को भेजे ई-मेल में लिखा है, क्रिकेट सलाहकार समिति का हिस्सा बनना सुखद अनुभव रहा, खासकर सीनियर पुरुष टीम के हेड कोच का चयन करना खुशी की बात थी। मैं अब तुरंत प्रभाव से क्रिकेट सलाहकार समिति से इस्तीफा दे रहा हूं। बीसीसीआई ने कपिल देव (Kapil Dev), शांता रंगास्वामी और अंशुमान गायकवाड़ को क्रिकेट सलाहकार समिति में शामिल किया था, जिसे टीम इंडिया के हेड कोच का चयन करना था। अब समिति से इस्तीफा देने के बाद कपिल देव और शांता रंगास्वामी को डीके जैन के नोटिस का जवाब देने की जरूरत नहीं है। इन्होंने की थी शिकायत बता दें कि मध्य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन (एमपीसीए) के लाइफ मेंबर संजीव गुप्ता ने सीएसी के तीनों सदस्यों के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी। संजीव गुप्ता की शिकायत के मुताबिक कपिल देव एक फ्लड लाइट कंपनी के मालिक, इंडियन क्रिकेट एसोसिएशन (आईसीए) के सदस्य और सीएसी के मेंबर हैं। इसी तरह अंशुमान गायकवाड़ आईसीए के सदस्य हैं और एक एकेडमी के मालिक हैं। शांता रंगास्वामी आईसीए और सीएसी दोनों की सदस्य हैं॰ बीसीसीआई के नियम के अनुसार कोई भी व्यक्ति एक से अधिक पद पर नहीं रह सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सीएसी में सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण की जगह इन तीनों सदस्यों ने पिछले साल ली थी। इन्होंने सबसे पहले भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए हेड कोच का चयन किया था। इस साल अगस्त के महीने में इस पैनल ने रवि शास्त्री को दोबारा भारतीय क्रिकेट टीम का हेड कोच नियुक्त किया है।