पूर्व भारतीय क्रिकेटर चंद्रशेखर की हार्ट अटैक से मौत, खेल जगत में शोक

h

चेन्नई। भारत पूर्व सलामी बल्लेबाज वीबी चंद्रशेखर का चेन्नई में दिल का दौरा पडऩे के कारण निधन हो गया। वह 57 वर्ष के थे। क्रिकेट जगत में वीबी के नाम से मशहूर चंद्रशेखर अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ रहते थे।

Former Indian Cricketer Vb Chandrasekhar Passes Away At 57 :

एक विस्फोटक सलामी बल्लेबाज चंद्रशेखर ने सात एक दिवसीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने इन सात मैचों में 7 पारियां खेलते हुए एक अर्धशतक की मदद से कुल 88 रन बनाए थे। उनका सर्वोच्च स्कोर 53 रन रहा था। इसके बाद वह टीम का नियमित हिस्सा नहीं बन सके थे।

उन्होंने भारत के लिए किसी टेस्ट मैच में शिरकत नहीं की। अपने शानदार घरेलू क्रिकेट करियर के दौरान वह 1988 में रणजी ट्रॉफी का खिताब जीतने वाली तमिलनाडु की टीम का हिस्सा बने थे। अपने क्रिकेट करियर के बाद वीबीने कोचिंग और कमेंट्री करने पर ध्यान केंद्रित किया। गौरतलब है कि उन्होंने कुछ समय के लिए राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में भी कार्य किया था। वह पहले तीन संस्करणों के दौरान आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स के प्रबंधक भी रहे।

भारत के पूर्व बल्लेबाज वीबी तमिलनाडु प्रीमियर लीग की कांची वीरन टीम के मालिक भी थे। क्रिकेट उनके लिए सब कुछ था। वीबी चेन्नई में एक अत्याधुनिक क्रिकेट अकादमी भी खोले हुए थे। उनके निधन से भारतीय क्रिकेट जगत शोक में है।

उनके निधन पर बोलते हुए उनके करीबी मित्र और भारत के पूर्व कप्तान के श्रीकांत ने कहा यह मेरे लिए एक बड़ा झटका है मैं इस पर विश्वास नहीं कर सकता। वह एक उच्च स्तर के आक्रमक बल्लेबाज थे। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वे भारत के लिए ज्यादा नहीं खेल सके। हम दोनों ने क्रिकेट के मैदान से दूर होने के बाद एक साथ कमेंट्री भी की। वह एक अच्छे मिजाज के व्यक्ति थे। भारतीय क्रिकेट चंद्रशेखर को उनके योगदान के लिए याद रखेगा।

चेन्नई। भारत पूर्व सलामी बल्लेबाज वीबी चंद्रशेखर का चेन्नई में दिल का दौरा पडऩे के कारण निधन हो गया। वह 57 वर्ष के थे। क्रिकेट जगत में वीबी के नाम से मशहूर चंद्रशेखर अपनी पत्नी और दो बेटियों के साथ रहते थे। एक विस्फोटक सलामी बल्लेबाज चंद्रशेखर ने सात एक दिवसीय मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। उन्होंने इन सात मैचों में 7 पारियां खेलते हुए एक अर्धशतक की मदद से कुल 88 रन बनाए थे। उनका सर्वोच्च स्कोर 53 रन रहा था। इसके बाद वह टीम का नियमित हिस्सा नहीं बन सके थे। उन्होंने भारत के लिए किसी टेस्ट मैच में शिरकत नहीं की। अपने शानदार घरेलू क्रिकेट करियर के दौरान वह 1988 में रणजी ट्रॉफी का खिताब जीतने वाली तमिलनाडु की टीम का हिस्सा बने थे। अपने क्रिकेट करियर के बाद वीबीने कोचिंग और कमेंट्री करने पर ध्यान केंद्रित किया। गौरतलब है कि उन्होंने कुछ समय के लिए राष्ट्रीय चयनकर्ता के रूप में भी कार्य किया था। वह पहले तीन संस्करणों के दौरान आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स के प्रबंधक भी रहे। भारत के पूर्व बल्लेबाज वीबी तमिलनाडु प्रीमियर लीग की कांची वीरन टीम के मालिक भी थे। क्रिकेट उनके लिए सब कुछ था। वीबी चेन्नई में एक अत्याधुनिक क्रिकेट अकादमी भी खोले हुए थे। उनके निधन से भारतीय क्रिकेट जगत शोक में है। उनके निधन पर बोलते हुए उनके करीबी मित्र और भारत के पूर्व कप्तान के श्रीकांत ने कहा यह मेरे लिए एक बड़ा झटका है मैं इस पर विश्वास नहीं कर सकता। वह एक उच्च स्तर के आक्रमक बल्लेबाज थे। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि वे भारत के लिए ज्यादा नहीं खेल सके। हम दोनों ने क्रिकेट के मैदान से दूर होने के बाद एक साथ कमेंट्री भी की। वह एक अच्छे मिजाज के व्यक्ति थे। भारतीय क्रिकेट चंद्रशेखर को उनके योगदान के लिए याद रखेगा।