सत्यपाल मलिक ने कहा- कश्मीर का गवर्नर केवल दारू पीता है और गोल्फ खेलता है

satypal malik
सत्यपाल मलिक ने कहा- कश्मीर का गवर्नर केवल दारू पीता है और गोल्फ खेलता है

नई दिल्ली। गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है। गोवा (Goa) के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक (SatyaPal Malik) ने कहा है कि कश्मीर के राज्यपाल के पास कोई काम नहीं होता है। उन्होंने कहा कि कश्मीर का राज्यपाल केवल दारू पीता है और गोल्फ खेलता है। दरअसल, गोवा के राज्यपाल सत्यपाल सिंह मलिक रविवार को बागपत स्थित अपने पैतृक गांव हिसावदा पहुंचे थे, जहां एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने ये बातें कहीं।  

Former Jk Governor Satya Pal Malik Governor No Work Drink Wine Play Golf :

गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को अपने गृह जनपद बागपत में एक सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा, ‘बाकी जगह (अन्य राज्यों) जो गवर्नर होते हैं वो आराम से रहते हैं, किसी झगड़े में नहीं पड़ते हैं।’ सत्यपाल मलिक बागपत के हिसावड़ा के ही रहने वाले हैं।  

उन्होंने कहा, ‘जब मुझे बिहार का राज्यपाल बनाया गया, तो मैंने सोचा कि वहां की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए कुछ करूं। राज्य में 100 कॉलेज ऐसे थे जो राजनेताओं के थे। उनके यहां एक टीचर तक नहीं था। हर साल वे बीएड में ऐडमिशन लेते और पैसे देकर एग्जाम करवाते और डिग्रियां बांटते थे। मैंने सारे कॉलेज खत्म किए और एक सेंट्रलाइज्ड एग्जाम करवाया।’

अनुच्छेद 370 हटाने में रही मलिक की अहम भूमिका

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने में तत्कालीन राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अहम भूमिका रही थी। इसके दो महीने बाद तक वह जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहे। इसके बाद उन्हें 3 नवंबर 2019 को गोवा का राज्यपाल नियुक्त किया गया।  

नई दिल्ली। गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है। गोवा (Goa) के मौजूदा राज्यपाल सत्यपाल मलिक (SatyaPal Malik) ने कहा है कि कश्मीर के राज्यपाल के पास कोई काम नहीं होता है। उन्होंने कहा कि कश्मीर का राज्यपाल केवल दारू पीता है और गोल्फ खेलता है। दरअसल, गोवा के राज्यपाल सत्यपाल सिंह मलिक रविवार को बागपत स्थित अपने पैतृक गांव हिसावदा पहुंचे थे, जहां एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने ये बातें कहीं।   गोवा के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को अपने गृह जनपद बागपत में एक सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा, 'बाकी जगह (अन्य राज्यों) जो गवर्नर होते हैं वो आराम से रहते हैं, किसी झगड़े में नहीं पड़ते हैं।' सत्यपाल मलिक बागपत के हिसावड़ा के ही रहने वाले हैं।   उन्होंने कहा, 'जब मुझे बिहार का राज्यपाल बनाया गया, तो मैंने सोचा कि वहां की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए कुछ करूं। राज्य में 100 कॉलेज ऐसे थे जो राजनेताओं के थे। उनके यहां एक टीचर तक नहीं था। हर साल वे बीएड में ऐडमिशन लेते और पैसे देकर एग्जाम करवाते और डिग्रियां बांटते थे। मैंने सारे कॉलेज खत्म किए और एक सेंट्रलाइज्ड एग्जाम करवाया।' अनुच्छेद 370 हटाने में रही मलिक की अहम भूमिका जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने में तत्कालीन राज्यपाल सत्यपाल मलिक की अहम भूमिका रही थी। इसके दो महीने बाद तक वह जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल रहे। इसके बाद उन्हें 3 नवंबर 2019 को गोवा का राज्यपाल नियुक्त किया गया।