1. हिन्दी समाचार
  2. मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूर्व एमएलसी इकबाल पर कसेगा ईडी का शिकंजा, सौरभ जैन पर मेहरबानी क्यों?

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूर्व एमएलसी इकबाल पर कसेगा ईडी का शिकंजा, सौरभ जैन पर मेहरबानी क्यों?

Former Mlc Iqbal Will Be Tightened By Ed On Money Laundering Case Why Should Saurabh Be Kind To Saurabh Jain

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ। मनी लॉन्ड्रिंग मामले में बसपा के पूर्व एमएलसी इकबाल पर ईडी का शिकंजा कसना शुरू हो गया है। इकबाल की ग्लोकल यूनिवर्सिटी और मसूरी स्थित एक आलीशान होटल को ईडी अटैच करने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके साथ ही इससे जुड़ी सभी औपचारिकताएं भी पूरी कर ली गईं हैं।

पढ़ें :- Kylie Jenner ने शेयर की Halloween पार्टी की हॉट तस्वीरें, सोशल मीडिया पर मचा कोहराम

ईडी की पड़ताल में सामने आया है कि इकबाल ने अपनी काली कमाई 700 एकड़ में बनी ग्लोकल यूनिवर्सिटी और होटल में लगाई है। दोनों संपत्ति की कीमत ढाई हजार करोड़ रुपये बताई जा रही है। सूत्रों की माने तो इकबाल की काली कमाई के बड़े हिस्से से उसके करीबियों और दोस्तों के व्यापार में लगी हुई है।

इसके साथ ही जांच में सामने आया है कि इकबाल की काली कमाई का सबसे ज्यादा हिस्सा होटल में लगा हुआ है। बता दें कि, इकबाल करीब 15 वर्ष पहले लकड़ी की मामूली टाल और फलों की दुकान लगाने का काम करता था। देखते ही देखते वह कई सौ करोड़ रुपये कमा लिए।

इसके साथ ही यूनिवर्सिटी के अलावा 150 से ज्यादा कंपनियां और 40 से ज्यादा फर्में बनाई। जांच में सामने आया कि इकबाल की कंपनियों में उसके करी​बी लोग ही ज्यादतर हैं। ईडी के अलावा सीबीआई, डीआरआई, आईबी सहित 13 एजेंसियां इकबाल के खिलाफ जांच कर रही हैं।

तीन बड़े घोटाले में रही भूमिका
बसपा सरकार के पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के करीबियों में इकबाल की गिनती होती थी। यूपी के तीन बड़े घोटाले खनन, चीनी मिल और एनआरएचएम में अहम भूमिका सामने आयी थी। ईडी से की गई शिकायत में कहा गया है कि इकबाल यूनिवर्सिटी में एचआरएचएम घोटाले की बड़ी रकम लगाया है।

पढ़ें :- बिहार चुनाव: जेपी नड्डा ने विपक्ष पर साधा निशाना, पूछा-क्या यह महागठबंधन विकास सुनिश्चित करेगा?

फिर सौरभ जैन पर मेहरबानी क्यों?
वहीं, जब​ इकबाल की संपत्तियों को ईडी अटैच करने की तैयारी कर रही है तो ऐसे में सवाल उठता है कि सौरभ जैन पर मेहरबानी क्यों की जा रही है। एआरएचएम के आरोपित और बड़े दवा कारोबारी सौरभ जैन ने अरबों रुपयों का खेल किया था। लेकिन सौरभ जैन की संपत्तियों को अटैच नहीं किया गया।

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...