पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए लंदन रवाना

नवाज शरीफ
पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए लंदन रवाना

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए मंगलवार को लंदन रवाना हो गए। पाकिस्तान की एक अदालत ने शनिवार को बीमार चल रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को इलाज के लिए चार सप्ताह के लिये विदेश जाने की अनुमति दी थी।

Former Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif Leaves For Treatment In London :

लाहौर उच्च न्यायालय ने इमरान सरकार को झटका देते हुए कहा कि चिकित्सकों की सिफारिशों के आधार पर पूर्व पीएम के विदेश में रहने की अवधि बढ़ाई जा सकती है। शरीफ (69) प्लेटलेट कम होने समेत स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। उनका इलाज फिलहाल लाहौर के पास उनके घर में चल रहा था, जहां एक आईसीयू बनाया गया है। दूसरी ओर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि वह नवाज शरीफ के खिलाफ कोई शत्रुता नहीं रखते हैं और बीमार पूर्व प्रधानमंत्री की स्वास्थ्य की चिंता राजनीति से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार मंत्रालय ने सोमवार को पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ और नवाज शरीफ द्वारा लाहौर उच्च न्यायालय को दिए गए उपक्रमों को फिर से शुरू किया जिसमें उनकी यात्रा और वापसी की शर्तें रखी गई हैं। साथ ही जारी की गई अधिसूचना में कहा गया है कि उनका नाम नियंत्रण सूची में शामिल रहेगा। दरअसल, लाहौर उच्च न्यायलय ने सरकार की बॉन्ड जमा करने की शर्त को एक तरफ करते हुए शरीफ को चार हफ्तों के लिए विदेश जाने की अनुमति दे दी है।

शहबाज़ शरीफ द्वारा प्रदान किए गए उपक्रम में एक क्लॉज शामिल है, जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान के उच्चायोग को पूर्व पीएम के डॉक्टरों से मिलने का अधिकार होगा जिससे उनके स्वास्थ्य के बारे में पुष्टि की जा सके। नवाज शरीफ को लंदन ले जाने के लिए मंगलवार सुबह दोहा से एक एयर एम्बुलेंस के लाहौर पहुंगी। दरअसल नवाज शरीफ को इम्यून सिस्टम डिसऑर्डर है। डॉक्टरों ने उन्हें विदेश जाने की सलाह दी थी।

पीएमएल-एन सुप्रीमो, जिन्हें जवाबदेही अदालत द्वारा अल-अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में दोषी पाया गया था। जिसके बाद उन्हें मानवीय आधार पर इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी थी। आपको बता दें कि उन्होंने लाहौर उच्च न्यायालय से चौधरी चीनी मिल मामले में भी जमानत प्राप्त की। पाकिस्तान के मीडिया संस्था डॉन के अनुसार, शहबाज ने भी एक क्लॉज पर हस्ताक्षर किए, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह चार सप्ताह के अंदर अपने भाई की वापसी सुनिश्चित करें। या फिर डॉक्टरों द्वारा प्रमाणन दिए गए प्रमाण पर की वह स्वास्थ हैं और पाकिस्तान वापस लौटने के लिए फिट हैं।

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ इलाज के लिए मंगलवार को लंदन रवाना हो गए। पाकिस्तान की एक अदालत ने शनिवार को बीमार चल रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को इलाज के लिए चार सप्ताह के लिये विदेश जाने की अनुमति दी थी। लाहौर उच्च न्यायालय ने इमरान सरकार को झटका देते हुए कहा कि चिकित्सकों की सिफारिशों के आधार पर पूर्व पीएम के विदेश में रहने की अवधि बढ़ाई जा सकती है। शरीफ (69) प्लेटलेट कम होने समेत स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से जूझ रहे हैं। उनका इलाज फिलहाल लाहौर के पास उनके घर में चल रहा था, जहां एक आईसीयू बनाया गया है। दूसरी ओर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि वह नवाज शरीफ के खिलाफ कोई शत्रुता नहीं रखते हैं और बीमार पूर्व प्रधानमंत्री की स्वास्थ्य की चिंता राजनीति से ज्यादा महत्वपूर्ण है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार मंत्रालय ने सोमवार को पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ और नवाज शरीफ द्वारा लाहौर उच्च न्यायालय को दिए गए उपक्रमों को फिर से शुरू किया जिसमें उनकी यात्रा और वापसी की शर्तें रखी गई हैं। साथ ही जारी की गई अधिसूचना में कहा गया है कि उनका नाम नियंत्रण सूची में शामिल रहेगा। दरअसल, लाहौर उच्च न्यायलय ने सरकार की बॉन्ड जमा करने की शर्त को एक तरफ करते हुए शरीफ को चार हफ्तों के लिए विदेश जाने की अनुमति दे दी है। शहबाज़ शरीफ द्वारा प्रदान किए गए उपक्रम में एक क्लॉज शामिल है, जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान के उच्चायोग को पूर्व पीएम के डॉक्टरों से मिलने का अधिकार होगा जिससे उनके स्वास्थ्य के बारे में पुष्टि की जा सके। नवाज शरीफ को लंदन ले जाने के लिए मंगलवार सुबह दोहा से एक एयर एम्बुलेंस के लाहौर पहुंगी। दरअसल नवाज शरीफ को इम्यून सिस्टम डिसऑर्डर है। डॉक्टरों ने उन्हें विदेश जाने की सलाह दी थी। पीएमएल-एन सुप्रीमो, जिन्हें जवाबदेही अदालत द्वारा अल-अजीजिया भ्रष्टाचार मामले में दोषी पाया गया था। जिसके बाद उन्हें मानवीय आधार पर इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने जमानत दे दी थी। आपको बता दें कि उन्होंने लाहौर उच्च न्यायालय से चौधरी चीनी मिल मामले में भी जमानत प्राप्त की। पाकिस्तान के मीडिया संस्था डॉन के अनुसार, शहबाज ने भी एक क्लॉज पर हस्ताक्षर किए, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह चार सप्ताह के अंदर अपने भाई की वापसी सुनिश्चित करें। या फिर डॉक्टरों द्वारा प्रमाणन दिए गए प्रमाण पर की वह स्वास्थ हैं और पाकिस्तान वापस लौटने के लिए फिट हैं।