पूर्व पीएम चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर ने राज्यसभा के लिए दाखिल किया नामांकन पत्र

neeraj shekhar
पूर्व पीएम चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर ने राज्यसभा के लिए दाखिल किया नामांकन पत्र

लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर ने बुधवार को विधान भवन में राज्यसभा के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया है। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव मौर्य, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह समेत कई बीेजेपी नेता मौजूद थे। दोपहर से ही नामांकन के लिए विधान भवन स्थित बीजेपी के विधान मंडल दल के कार्यालय में लोग एकत्रित होने लगे थे।

Former Pm Chandrasekhars Son Neeraj Shekhar Filed Nomination Papers For Rajya Sabha :

नामांकन के दौरान पूर्व सपा एमएलए सीपी चंद्र और सपा एमएलसी रविशंकर सिंह भी वहां मौजूद थे। गौरतलब है कि, नीरज शेखर कुछ दिनों पूर्व राज्यसभा और सपा की सदस्यता से इस्तीफा देकर बीजेपी ज्वॉइन किया था। नीरज शेखर लंबे समय तक सपा से जुड़े रहे। लोकसभा चुनाव में सपा से टिकट नहीं मिलने के कारण नीरज शेखर अखिलेश यादव से नाराज चल रहे थे।

इस कारण इन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा देते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया था। उप चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश कोटे से नीरज शेखर को भाजपा ने अपना उम्मीदवार घोषित किया है। राज्यसभा के लिए निर्वाचित होने के बाद शेखर का कार्यकाल नवंबर 2020 तक रहेगा।

लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर ने बुधवार को विधान भवन में राज्यसभा के लिए नामांकन पत्र दाखिल किया है। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव मौर्य, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह समेत कई बीेजेपी नेता मौजूद थे। दोपहर से ही नामांकन के लिए विधान भवन स्थित बीजेपी के विधान मंडल दल के कार्यालय में लोग एकत्रित होने लगे थे। नामांकन के दौरान पूर्व सपा एमएलए सीपी चंद्र और सपा एमएलसी रविशंकर सिंह भी वहां मौजूद थे। गौरतलब है कि, नीरज शेखर कुछ दिनों पूर्व राज्यसभा और सपा की सदस्यता से इस्तीफा देकर बीजेपी ज्वॉइन किया था। नीरज शेखर लंबे समय तक सपा से जुड़े रहे। लोकसभा चुनाव में सपा से टिकट नहीं मिलने के कारण नीरज शेखर अखिलेश यादव से नाराज चल रहे थे। इस कारण इन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा देते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया था। उप चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश कोटे से नीरज शेखर को भाजपा ने अपना उम्मीदवार घोषित किया है। राज्यसभा के लिए निर्वाचित होने के बाद शेखर का कार्यकाल नवंबर 2020 तक रहेगा।