पाकिस्तान के करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन में जाएंगे पूर्व PM मनमोहन सिंह

manmohan singh
पाकिस्तान के करतारपुर कॉरिडोर उद्घाटन में जाएंगे पूर्व PM मनमोहन सिंह

नई दिल्ली। हाल ही में पाकिस्तान द्वारा भारत के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन में आने का न्योता मिला था, लेकिन सूत्रो से मिली जानकारी के मुताबिक उन्होने पकिस्तान के न्योते को ठुकरा दिया था। वहीं जब पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मनमोहन सिंह को इस जत्थे में शामिल होने का न्योता दिया तो उन्होने इसे स्वीकार कर लिया और अब वह सीमा पार जाने वाले पहले जत्थे में करतारपुर जायेंगे। इसके अलावा वह गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर सुल्तानपुर लोधी में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे।

Former Pm Manmohan Singh To Visit Pakistans Kartarpur Corridor Inauguration :


आपको बता दें कि नई दिल्ली और इस्लामाबाद की तरफ से सिखों के भारत स्थित धार्मिक स्थल डेरा बाबा नानक साहिब और पाकिस्तान के गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर कॉरिडोर को जोड़ने के लिए काम किया जा रहा है। यह गलियारा भारतीय क्षेत्र से करतारपुर साहिब गुरुद्वारे को जोड़ेगा। बताया जाता है इसी गुरुद्वारे में बाबा गुरु नानक ने अपने जीवन के अंतिम क्षण बिताए थे, इस वजह से इसे बेहद पवित्र माना जाता है।

4.2 किलोमीटर लंबे गलियारे का निर्माण 31 अक्टूबर तक पूरा करने का लक्ष्य है. इसके बाद, प्रतिदिन 5,000 श्रद्धालु गुरुद्वारे में मत्था टेक सकेंगे। आपको बता दें कि 9 नवंबर को पंजाब से करतारपुर साहिब के लिए सिख श्रद्धालुओं का जत्था रवाना होगा। भारतीय श्रद्धालु बिना वीजा के सरहद के उस पार जाकर दरबार साहिब गुरुद्वारा जा सकेंगे. इसके लिए उन्हें केवल एक परमिट लेना होगा।

नई दिल्ली। हाल ही में पाकिस्तान द्वारा भारत के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन में आने का न्योता मिला था, लेकिन सूत्रो से मिली जानकारी के मुताबिक उन्होने पकिस्तान के न्योते को ठुकरा दिया था। वहीं जब पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मनमोहन सिंह को इस जत्थे में शामिल होने का न्योता दिया तो उन्होने इसे स्वीकार कर लिया और अब वह सीमा पार जाने वाले पहले जत्थे में करतारपुर जायेंगे। इसके अलावा वह गुरु नानक देव की 550वीं जयंती पर सुल्तानपुर लोधी में आयोजित मुख्य कार्यक्रम में भी हिस्सा लेंगे। आपको बता दें कि नई दिल्ली और इस्लामाबाद की तरफ से सिखों के भारत स्थित धार्मिक स्थल डेरा बाबा नानक साहिब और पाकिस्तान के गुरुद्वारा दरबार साहिब करतारपुर कॉरिडोर को जोड़ने के लिए काम किया जा रहा है। यह गलियारा भारतीय क्षेत्र से करतारपुर साहिब गुरुद्वारे को जोड़ेगा। बताया जाता है इसी गुरुद्वारे में बाबा गुरु नानक ने अपने जीवन के अंतिम क्षण बिताए थे, इस वजह से इसे बेहद पवित्र माना जाता है। 4.2 किलोमीटर लंबे गलियारे का निर्माण 31 अक्टूबर तक पूरा करने का लक्ष्य है. इसके बाद, प्रतिदिन 5,000 श्रद्धालु गुरुद्वारे में मत्था टेक सकेंगे। आपको बता दें कि 9 नवंबर को पंजाब से करतारपुर साहिब के लिए सिख श्रद्धालुओं का जत्था रवाना होगा। भारतीय श्रद्धालु बिना वीजा के सरहद के उस पार जाकर दरबार साहिब गुरुद्वारा जा सकेंगे. इसके लिए उन्हें केवल एक परमिट लेना होगा।