पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा बने जम्मू-कश्मीर के नए उपराज्यपाल, गिरीश चंद्र मुर्मू का इस्तीफा मंजूर

manoj
जम्मू-कश्मीर: एक साल तक बिजली-पानी के बिल में 50 प्रतिशत की छूट, आर्थिक पैकेज का एलान

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा को जम्मू कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है। राष्ट्रपति सचिवालय द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि जम्मू—कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया है। जिसके बाद मनोज सिन्हा को जम्मू कश्मीर का नया उपराज्यपाल बनाया गया है।

Former Union Minister Manoj Sinha Accepts Resignation Of Girish Chandra Murmu New Lieutenant Governor Of Jammu And Kashmir :

लगभग नौ महीने तक प्रदेश की कमान संभालने वाले मुर्मू भारत के नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (सीएजी) होंगे। मुर्मू ने अनुच्छेद 370 हटने की पहली वर्षगांठ पर त्यागपत्र दिया है। बता दें कि, बुधवार देर शाम अचानक उपराज्यपाल के इस्तीफे की खबरे सामने आईं।

हालाांकि, पूरे दिन उन्होंने सरकारी कामकाज किया। प्रशासनिक परिषद की बैठक की अध्यक्षता की और शाम को उनके इस्तीफे की बात सामने आई। सूत्रों की माने तो मुर्मू को केंद्र में भेजे जाने की कवायद पिछले कई महीने से चल रही थी।

सोशल मीडिया पर भी उन्हें हटाए जाने की बात वायरल हुई थी लेकिन तब केंद्र ने उनका बचाव किया था। 1985 बैच के आईएएस अफसर रहे मुर्मू गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव रहे थे। मुर्मू वीरवार सुबह नई दिल्ली जाएंगे।

 

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा को जम्मू कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है। राष्ट्रपति सचिवालय द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि जम्मू—कश्मीर के उपराज्यपाल गिरीश चंद्र मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया है। जिसके बाद मनोज सिन्हा को जम्मू कश्मीर का नया उपराज्यपाल बनाया गया है। लगभग नौ महीने तक प्रदेश की कमान संभालने वाले मुर्मू भारत के नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (सीएजी) होंगे। मुर्मू ने अनुच्छेद 370 हटने की पहली वर्षगांठ पर त्यागपत्र दिया है। बता दें कि, बुधवार देर शाम अचानक उपराज्यपाल के इस्तीफे की खबरे सामने आईं। हालाांकि, पूरे दिन उन्होंने सरकारी कामकाज किया। प्रशासनिक परिषद की बैठक की अध्यक्षता की और शाम को उनके इस्तीफे की बात सामने आई। सूत्रों की माने तो मुर्मू को केंद्र में भेजे जाने की कवायद पिछले कई महीने से चल रही थी। सोशल मीडिया पर भी उन्हें हटाए जाने की बात वायरल हुई थी लेकिन तब केंद्र ने उनका बचाव किया था। 1985 बैच के आईएएस अफसर रहे मुर्मू गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव रहे थे। मुर्मू वीरवार सुबह नई दिल्ली जाएंगे।