नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को अपने कैबिनेट का तीसरा विस्तार करते हुए अपने मंत्रिमंडल के चार चेहरों को प्रमोशन देते हुए कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई है, जबकि नौ नए चेहरों को मंत्रिमंडल में स्थान दिया गया है। नए चेहरों में चार पूर्व रिटायर्ड आईएएस अधिकारी हैं।

राष्ट्रपति भवन में रविवार की सुबह शुरू हुए शपथग्रहण समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पहली शपथ स्वतंत्र प्रभार राज्यमंत्री रहे धर्मेन्द्र प्रधान को दिलाई गई। धर्मेन्द्र प्रधान को मोदी कैबिनेट में एंट्री मिली है। धर्मेन्द्र प्रधान के बाद पियूष गोयल, मुख्तार अब्बास नकवी, निर्मला सीतारमण को भी कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गई।

{ यह भी पढ़ें:- बीजेपी के इस दिग्गज सांसद ने दिया पार्टी से इस्तीफा, बोले- पीएम की नीतियों से खुश नहीं हूं }

राज्यमंत्री के रूप में शपथ लेने वालों में पहला नाम उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद शिवप्रताप शुक्ला का रहा। उनके बाद बिहार से अश्वनी चौबे, आरपी सिंह, मध्यप्रदेश से वीरेन्द्र कुमार, कर्नाटक से अनंत कुमार हेगड़े, पूर्व राजनायिक हरदीप सिंह पुरी, राजस्थान ने गजेन्द्र सिंह शेखावत, यूपी से सांसद और पूर्व आईपीएस सतपाल सिंह और सेवानिवृत्त आईएएस अल्फोंस कन्नथनम को शपथ ग्रहण करवाई गई।

फिलहाल किस मंत्री को कौन सा मंत्रालय मिलेगा यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। बताया जा रहा है कि ब्रिक्स सम्मेलन के लिए चीन के दौरे पर जा रहे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के वापस लौटने के बाद विभागों की स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

{ यह भी पढ़ें:- मणिशंकर अय्यर के 'नीच' वाले बयान पर बोले पीएम मोदी- सभी गुजरातियों का अपमान किया }

मोदी कैबिनेट की तीसरे विस्तार को 2019 के आम चुनाव के अलावा गुजरात और कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है। इस विस्तार को बेहद नपी तुली अंदाज के साथ अंजाम दिया गया है।