बलात्कारी बाबा को अदालत से भगाने की साजिश में चार पुलिसकर्मी गिरफ्तार

पंचकुला। 25 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सीबीआई अदालत में दोषी करार दिए जाने के बाद भगाने का षड्यंत्र रचने की मामले में हरियाणा पुलिस ने गुरुवार को पांच गिरफ्तारियां ​कीं हैं। जिनमें चार पुलिसकर्मी बताए जा रहे हैं। गिरफ्तार किए गए पुलिस कर्मियों में तीन हरियाणा पुलिस के जवान हैं जबकि एक अन्य राजस्थान पुलिस का जवान है। इन गिरफ्तारियों में इस साजिश का मुख्य सूत्रधार दिलावर इंसा भी सोनीपत से गिरफ्तार किया गया है। इन सभी के खिलाफ देशद्रोह की धाराओं समेंत गंभीर आपराधिक धाराओं में मामला दर्ज​ किया गया है। इन सभी को शुक्रवार को अदालत में पेश किया जाना है।

मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई विशेष अदालत में पेश हुए गुरमीत राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद कोर्टरूम से भगाने की साजिश रची गई थी। इस साजिश में हरियाणा पुलिस के कुछ जवानों समेंत बाबा की सुरक्षा में तैनात अन्य राज्यों के पुलिस कर्मी और निजी सुरक्षाकर्मीयों की मदद ली जानी थी। अदालत में पेशी पर आए बाबा को सजा मिलने की संभावनाओं के बीच उनकी करीबी रही मुंहबोली बेटी हनीप्रीत और दिलावर इंसा ने बाबा के साथ मिलकर कोर्टरूम से फरारी का प्लान तैयार किया था। पंचकुला की सड़कों पर हुई हिंसा इसी प्लानिंग का हिस्सा थी लेकिन समय रहते मौके पर मौजूद प्रशासनिक अधिकारियों ने पूरी साजिश को भांप लिया और गुरमीत की फरारी को नाकाम कर दिया।

{ यह भी पढ़ें:- पूर्व पति ने खोला राज, बलात्कारी बाबा के बेडरूम तक था हनी की प्रीत का असर }

हरियाणा पुलिस ने पूरी साजिश का पर्दाफाश करते हुए बताया है कि बाबा सुरक्षा में तैनात हरियाणा पुलिस के दो हेड कांस्टेबल अमित कुमार और राजेश कुमार, कांस्टेबल राजेश कुमार और राजस्थान पुलिस के कांस्टेबल ओम प्रकाश को हिरासत में लिया जा चुका है। इसके अलावा कुछ सुरक्षाकर्मी पूर्व में ही हिरासत में लिए जा चुके हेै। जेड प्लस सुरक्षा में रहने वाले गुरमीत को चार राज्यों से सुरक्षा मिली हुई थी। अदालत में पेशी के दौरान कई राज्यों के सुरक्षाकर्मी ड्यूटी पर न होते हुए भी अदालत तक पहुंचे थे।

फैसले वाले दिन अदालत तक पहुंची गुरमीत रहीम के सुरक्षा दस्ते के कई सिपाही ड्यूटी पर न होते हुए भी अदालत तक लाए गए थे। इस बात का खुलासा हरियाणा पुलिस की जांच में हुआ है। कुछ सीपाहियों को तो बाबा की फरार होने की योजना की भनक तक नहीं थी। उन्हें गुमराह करके बाबा के काफिले में शामिल गाड़ियों में बैठाकर पंचकुला तक लाया गया था।

{ यह भी पढ़ें:- 12 घंटे में 8 जगह छापेमारी, भ्रष्टाचार के आरोप में रिटायर्ड जज समेत पांच अरेस्ट }