कठुआ गैंगरेप मामला: दुराचार व हत्या के आरोपी चार पुलिसकर्मी बर्खास्त

jk-cm mahbooba mufti
कठुआ गैंगरेप मामला: दुराचार व हत्या के आरोपी चार पुलिसकर्मी बर्खास्त

जम्मू। जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ जिले में आठ साल की मासूम बच्ची के साथ हुए गैगरेप और हत्या के मामले में दोषी पाए गए चार पुलिसकर्मियों को महबूबा मुफ्ती सरकार ने बर्खास्त कर ​दिया है। इसके साथ ही सरकार ने जम्मू—कश्मीर उच्च न्यायलय के मुख्य न्यायधीश से इस पूरे प्र​करण की सुनवाई मात्र 90 दिनों में समाप्त करने की अपील की है।

Four Policemen Suspeded In Kathua Rape And Murder Case :

बता दें कि इस मामले में आरोपितों के पक्ष में कुछ लोगों ने रैली निकालकर उन्हे निर्दोष करार देने की मांग की थी, जिसमें वहां की गठबंधन सरकार के दो मंत्रियों लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा ने भी हिस्सा लिया था। उनकी इस करतूत की जानकारी सरकार को हुई तो जिसके बाद उनसे इस्तीफा ले लिया गया।

बता दें कि बर्खास्त किए गए पुलिसकर्मियों में एक उपनिरीक्षक, एक हवलदार और दो विशेष पुलिस अधिकारियों को बर्खास्त किया। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को खत लिख कर इस मामले की सुनवाई 90 दिनों में समाप्त करने की लिए त्वरित अदालत की मांग भी की है.

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री ने इस मामले में पीड़िता को न्याय दिलाने की मुहीम में साथ देने के साथ सरकार के साथ खड़े हुए सरकार के लोगों के साथ ही न्यायपालिका, मीडिया और समाज के लोगों का आभार भी व्यक्त किया है।

जम्मू। जम्मू एवं कश्मीर के कठुआ जिले में आठ साल की मासूम बच्ची के साथ हुए गैगरेप और हत्या के मामले में दोषी पाए गए चार पुलिसकर्मियों को महबूबा मुफ्ती सरकार ने बर्खास्त कर ​दिया है। इसके साथ ही सरकार ने जम्मू—कश्मीर उच्च न्यायलय के मुख्य न्यायधीश से इस पूरे प्र​करण की सुनवाई मात्र 90 दिनों में समाप्त करने की अपील की है।बता दें कि इस मामले में आरोपितों के पक्ष में कुछ लोगों ने रैली निकालकर उन्हे निर्दोष करार देने की मांग की थी, जिसमें वहां की गठबंधन सरकार के दो मंत्रियों लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा ने भी हिस्सा लिया था। उनकी इस करतूत की जानकारी सरकार को हुई तो जिसके बाद उनसे इस्तीफा ले लिया गया।बता दें कि बर्खास्त किए गए पुलिसकर्मियों में एक उपनिरीक्षक, एक हवलदार और दो विशेष पुलिस अधिकारियों को बर्खास्त किया। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को खत लिख कर इस मामले की सुनवाई 90 दिनों में समाप्त करने की लिए त्वरित अदालत की मांग भी की है.जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री ने इस मामले में पीड़िता को न्याय दिलाने की मुहीम में साथ देने के साथ सरकार के साथ खड़े हुए सरकार के लोगों के साथ ही न्यायपालिका, मीडिया और समाज के लोगों का आभार भी व्यक्त किया है।