राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा-चाहते हैं फ्रांस, भारत का यूरोप में सबसे अच्छा पार्टनर बने

राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा-चाहते हैं फ्रांस, भारत का यूरोप में सबसे अच्छा पार्टनर बने
राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा-चाहते हैं फ्रांस, भारत का यूरोप में सबसे अच्छा पार्टनर बने

नई दिल्ली। चार दिवसीय भारत दौरे पर अपनी पत्नी ब्रिगिट्टे मैरी क्लाउड मैक्रों  और मंत्रिमंडल के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ आए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ दिल्ली के हैदराबाद हाउस में मुलाकात कर रहे हैं। इससे पहले मैक्रोन ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलकर कई मुद्दो पर चर्चा की। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने शनिवार को कहा कि फ्रांस, भारत का सबसे बेहतरीन साझेदार देश और यूरोप में भारत के प्रवेश का बिंदु होना चाहिए। इस दौरान वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) सम्मेलन की सह अध्यक्षता करेंगे।

मैक्रों ने कहा कि इस दौरे के उनके तीन उद्देश्य हैं। उन्होंने राष्ट्रपति भवन में अपने औपचारिक स्वागत के बाद संवाददाताओं को बताया कि उनका पहला उद्देश्य रक्षा, अनुसंधान एवं विज्ञान, विशेष रूप से युवा, उच्च शिक्षा और विज्ञान के क्षेत्र में भारत और फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी का नया युग शुरू करना है। मैक्रों ने कहा, “यह महत्वपूर्ण है कि क्योंकि आतंकवाद के संदर्भ में दोनों देशों के बीच कई सामान्य चुनौतियां और साझा जोखिम हैं।” उन्होंने कहा, “इस यात्रा का दूसरा उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (सम्मेलन) का आयोजन करना है।” उन्होंने कहा,, “तीसरा उद्देश्य यह संदेश देना है कि फ्रांस विशेष रूप से यूरोप में भारत का बेहतरीन साझेदार देश और यूरोप में प्रवेश का बिंदु होना चाहिए।”

{ यह भी पढ़ें:- भाजपा नेताओं ने पीएम मोदी-सीएम योगी की तस्वीर पर चढ़ा दिया माला, फोटो वायरल }

इसके बाद शनिवार को ही मोदी और मैक्रों एक द्विपक्षीय सम्मेलन में हिस्सा लेंगे, जिसके बाद कई क्षेत्रों में समझौते होने की संभावना हैं।मोदी और मैक्रों शनिवार को आईएसए सम्मेलन की सह अध्यक्षता करेंगे, जिसे मोदी और फ्रांस के पूर्व राष्ट्रति फ्रांस्वा ओलांद ने 2015 में पेरिस जलवायु सम्मेलन के दौरान शुरू किया था।

वाराणसी और मिर्जापुर जाएंगे

{ यह भी पढ़ें:- 'नाले की गैस से चाय' वाले बयान पर पीएम मोदी का उड़ा मज़ाक, कांग्रेस ने किया ये ट्वीट }

फ्रांस के राष्ट्रपति अपनी पहली भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी जाएंगे। मैक्रॉन मोदी के साथ 12 मार्च को वाराणसी पहुंचेंगे। इससे पहले दोनों नेता उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर भी जाएंगे। दोनों नेता वहां पर फ्रांस की कंपनी एनवॉयर सोलर प्राइवेट लिमिटेड और नेडा ने दादरकलां गांव में 650 करोड़ से बने 75 मेगावॉट के सोलर पावर प्लांट का उद्घाटन करेंगे। मैक्रॉन मोदी के साथ काशी के घाट घूमेंगे। मैक्रॉन के स्वागत के लिए नृत्य संगीत का एक कार्यक्रम भी आयोजित किया जाएगा।

आठ हजार विद्यार्थी दोनों देशों के झंडे लहराएंगे

वाराणसी पहुंचने पर मैक्रॉन और मोदी का स्वागत अलग ढंग से किया जाएगा। जिस रास्ते से प्रधानमंत्री और फ्रांस के राष्ट्रपति गुजरेंगे उस रास्ते पर करीब आठ हजार स्कूली छात्र-छात्राएं फ्रांस एवं भारत के झंडे लहराएंगे। इसके लिए 150 स्कूलों को जिला प्रशासन ने पत्र भेजकर बच्चों को तैयार रहने को कहा है।

{ यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी का दावा- एक साल में 1 करोड़ लोगों को रोजगार मिला }

नई दिल्ली। चार दिवसीय भारत दौरे पर अपनी पत्नी ब्रिगिट्टे मैरी क्लाउड मैक्रों  और मंत्रिमंडल के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ आए फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ दिल्ली के हैदराबाद हाउस में मुलाकात कर रहे हैं। इससे पहले मैक्रोन ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलकर कई मुद्दो पर चर्चा की। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने शनिवार को कहा कि फ्रांस, भारत का सबसे बेहतरीन साझेदार देश और यूरोप में भारत के प्रवेश का बिंदु…
Loading...