भगोड़े जाकिर नाईक की बढ़ी मुश्किलें, PMLA कोर्ट ने जारी किया गैर जमानती वारंट

zakir
भगोड़े जाकिर नाईक की बढ़ी मुश्किलें, PMLA कोर्ट ने जारी किया गैर जमानती वारंट

मुंबई। मुंबई की विशेष पीएमएलए कोर्ट ने विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। पिछले हफ्ते ईडी की तरफ से कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के बाद यह वारंट जारी हुआ। जाकिर 2016 से भारत के लिए वांटेड है। वह मलेशिया में शरण लिए हुए है। 

Fugitive Zakir Naik Has Increased Problems Pmla Court Issues Non Bailable Warrant :

मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने मंगलवार को कहा कि उनके भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी ने उनसे विवादास्पद इस्लामिक धर्म प्रचारक जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के संबंध में अनुरोध नहीं किया है। उधर, भारतीय विदेश मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्री एस. जयशंकर कह चुके हैं कि हम जाकिर नाइक को वापस चाहते हैं और इसे लेकर मलेशिया की सरकार को प्रत्यर्पण अनुरोध भेजा गया है।

इससे पहले मंगलवार को भी मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर बिन मोहम्मद ने यही बात कही थी, जिसके जवाब में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा था कि इस महीने रूस में मलेशिया के पीएम महाथिर बिन मोहम्मद और पीएम मोदी की मुलाकात हुई थी। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच जाकिर नाइक के मुद्दे पर चर्चा हुई थी और प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया गया था।

साल 2016 में जाकिर नाइक भारत से भागकर मलेशिया आ गया था। वहां की सरकार ने उसे स्थायी तौर पर देश में रहने की इजाजत दी थी। जाकिर नाइक भारत में वॉन्टेड है और उस पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज है। इसके अलावा उस पर नफरत फैलाने और आतंकी गतिविधियों में शामिल रहने जैसे संगीन आरोप भी हैं।

मुंबई। मुंबई की विशेष पीएमएलए कोर्ट ने विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। पिछले हफ्ते ईडी की तरफ से कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के बाद यह वारंट जारी हुआ। जाकिर 2016 से भारत के लिए वांटेड है। वह मलेशिया में शरण लिए हुए है।  मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने मंगलवार को कहा कि उनके भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी ने उनसे विवादास्पद इस्लामिक धर्म प्रचारक जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण के संबंध में अनुरोध नहीं किया है। उधर, भारतीय विदेश मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्री एस. जयशंकर कह चुके हैं कि हम जाकिर नाइक को वापस चाहते हैं और इसे लेकर मलेशिया की सरकार को प्रत्यर्पण अनुरोध भेजा गया है। इससे पहले मंगलवार को भी मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर बिन मोहम्मद ने यही बात कही थी, जिसके जवाब में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा था कि इस महीने रूस में मलेशिया के पीएम महाथिर बिन मोहम्मद और पीएम मोदी की मुलाकात हुई थी। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच जाकिर नाइक के मुद्दे पर चर्चा हुई थी और प्रत्यर्पण का मुद्दा उठाया गया था। साल 2016 में जाकिर नाइक भारत से भागकर मलेशिया आ गया था। वहां की सरकार ने उसे स्थायी तौर पर देश में रहने की इजाजत दी थी। जाकिर नाइक भारत में वॉन्टेड है और उस पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज है। इसके अलावा उस पर नफरत फैलाने और आतंकी गतिविधियों में शामिल रहने जैसे संगीन आरोप भी हैं।