बांग्लादेश में आतंकियों को फंडिंग कर रहा ISI, एक्शन में शेख हसीना

isi funding
बांग्लादेश में आतंकियों को फंडिंग कर रहा ISI, एक्शन में शेख हसीना

नई दिल्ली। बांग्लादेश के स्वतंत्र राष्ट्र बनने के बावजूद पाकिस्तान अपनी नापाक करतूतों से बाज नहीं आ रहा है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI बांग्लादेश में सक्रिय आतंकी संगठनों और गैरसरकारी संगठनों को फंडिंग कर रही है। इसकी खबर लगते ही शेख हसीना ने पाकिस्तान की मदद से पल रहे इन आतंकी संगठनों के खिलाफ एक्शन में आ गई हैं। बता दें कि बांग्लादेश में ऐसे समय में यह ऑपरेशन शुरू किया गया है जब एक महीने के बाद 23 दिसंबर को संसदीय चुनाव होने हैं।

Funding By Isi To Terrerist In Bagladesh Sheikh Haseena Is In Action :

इस बात का खुलासा तब हुआ जब वहां की पुलिस ने आतंकी संगठन से संबंधित NGO के कई कर्मचारियों को पकड़ा है। इसके साथ ही एक बीमा कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू की गई है। पूछताछ में पता चला कि इस सभी को पाकिस्तान से फंडिंग की जा रही थी। जिसके बाद एक्शन में आई बांग्लादेश की एजेंसियों ने आतंकियों के कई ठिकानों को ढूंढ निकाला है

बता दें कि NGO स्मॉल काइंडनेस बांग्लादेश के 8 कर्मचारियों को पुलिस ने टेरर फाइनैंसिंग के आरोप में गिरफ्तार किया। ये सभी लोग एक प्रतिबंधित संगठन अंसार-अल-इस्लाम के संपर्क में थे। अधिकारियों ने बताया कि बांग्लादेश की सेना का एक मेजर बाद में आतंकी लीडर बन बैठा। इस नाम तीन साल पहले एक प्रख्यात प्रकाशक की हत्या में भी इसका नाम आया था। एक अधिकारी ने बताया कि पब्लिशर फैजल दीपान की हत्या का मास्टरमाइंड बर्खास्त और भगोड़ा मेजर सैयद जियाउल हक था।

नई दिल्ली। बांग्लादेश के स्वतंत्र राष्ट्र बनने के बावजूद पाकिस्तान अपनी नापाक करतूतों से बाज नहीं आ रहा है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI बांग्लादेश में सक्रिय आतंकी संगठनों और गैरसरकारी संगठनों को फंडिंग कर रही है। इसकी खबर लगते ही शेख हसीना ने पाकिस्तान की मदद से पल रहे इन आतंकी संगठनों के खिलाफ एक्शन में आ गई हैं। बता दें कि बांग्लादेश में ऐसे समय में यह ऑपरेशन शुरू किया गया है जब एक महीने के बाद 23 दिसंबर को संसदीय चुनाव होने हैं। इस बात का खुलासा तब हुआ जब वहां की पुलिस ने आतंकी संगठन से संबंधित NGO के कई कर्मचारियों को पकड़ा है। इसके साथ ही एक बीमा कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू की गई है। पूछताछ में पता चला कि इस सभी को पाकिस्तान से फंडिंग की जा रही थी। जिसके बाद एक्शन में आई बांग्लादेश की एजेंसियों ने आतंकियों के कई ठिकानों को ढूंढ निकाला है बता दें कि NGO स्मॉल काइंडनेस बांग्लादेश के 8 कर्मचारियों को पुलिस ने टेरर फाइनैंसिंग के आरोप में गिरफ्तार किया। ये सभी लोग एक प्रतिबंधित संगठन अंसार-अल-इस्लाम के संपर्क में थे। अधिकारियों ने बताया कि बांग्लादेश की सेना का एक मेजर बाद में आतंकी लीडर बन बैठा। इस नाम तीन साल पहले एक प्रख्यात प्रकाशक की हत्या में भी इसका नाम आया था। एक अधिकारी ने बताया कि पब्लिशर फैजल दीपान की हत्या का मास्टरमाइंड बर्खास्त और भगोड़ा मेजर सैयद जियाउल हक था।