RSS प्रमुख के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- भारत न हिंदू राष्ट्र था, न है और न होगा

Owaisi
RSS प्रमुख के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- भारत न हिंदू राष्ट्र था, न है और न होगा

दिल्ली। अक्सर देखा जाता है कि AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी अक्सर अपने बयानो को लेकर चर्चा में बने रहते हैं, इन दिनो जब भी आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत का बयान आता है तो ओवैसी तुरन्त उसका अपने अंदाज में जबाब देते हैं। हाल ही में मोहन भागवत ने भारत को हिंदुओ का देश बताया था, इसी बयान पर ओवैसी एकबार फिर भागवत पर भड़क गये और उन्होने कहा कि भारत न कभी हिंदू राष्ट्र था, ना है और न ही कभी बनेगा।

Furious At The Rss Chiefs Statement Owaisi Said India Was Neither A Hindu Nation Not Is It Not Will It Be :

 

 

दरअसल आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने हाल ही में एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा था कि भारत हिंदुओं का देश हैं, हम हिंदू राष्ट्र हैं, हिंदू किसी पूजा का नाम नहीं, किसी भाषा का नाम नहीं और किसी प्रांत या प्रदेश का नाम नहीं है. हिंदू एक संस्कृति का नाम है, जो भारत में रहने वाली सबकी सांस्कृतिक विरासत है।

ओवैसी इसी का पलटवार करते हुए बोले कि मोहन भागवत भारत को हिंदू राष्ट्र बताकर मेरे इतिहास को मिटा नहीं सकते हैं. वो यह नहीं कह सकते हैं कि हमारी संस्कृति, आस्था, पंथ और व्यक्तिगत पहचान समेत सब कुछ हिंदू संस्कृति में शामिल है।

आपको बता दें ​कि कुछ दिनों पहले भी आरएसएस के मोहन भागवत ने मॉब लिंचिंग पर बयान देते हुए कहा था कि ये शब्द भारत का नही है, इसका नाम लेकर भारत को बदनाम किया जा रहा है, उस पर भी औवैसी भड़के थे और यहां तक कह दिया था कि जिस विचारधारा ने गांधी और तबरेज की हत्या की उससे ज्यादा बदनामी क्या हो सकती है।

दिल्ली। अक्सर देखा जाता है कि AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी अक्सर अपने बयानो को लेकर चर्चा में बने रहते हैं, इन दिनो जब भी आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत का बयान आता है तो ओवैसी तुरन्त उसका अपने अंदाज में जबाब देते हैं। हाल ही में मोहन भागवत ने भारत को हिंदुओ का देश बताया था, इसी बयान पर ओवैसी एकबार फिर भागवत पर भड़क गये और उन्होने कहा कि भारत न कभी हिंदू राष्ट्र था, ना है और न ही कभी बनेगा।     दरअसल आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत ने हाल ही में एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा था कि भारत हिंदुओं का देश हैं, हम हिंदू राष्ट्र हैं, हिंदू किसी पूजा का नाम नहीं, किसी भाषा का नाम नहीं और किसी प्रांत या प्रदेश का नाम नहीं है. हिंदू एक संस्कृति का नाम है, जो भारत में रहने वाली सबकी सांस्कृतिक विरासत है। ओवैसी इसी का पलटवार करते हुए बोले कि मोहन भागवत भारत को हिंदू राष्ट्र बताकर मेरे इतिहास को मिटा नहीं सकते हैं. वो यह नहीं कह सकते हैं कि हमारी संस्कृति, आस्था, पंथ और व्यक्तिगत पहचान समेत सब कुछ हिंदू संस्कृति में शामिल है। आपको बता दें ​कि कुछ दिनों पहले भी आरएसएस के मोहन भागवत ने मॉब लिंचिंग पर बयान देते हुए कहा था कि ये शब्द भारत का नही है, इसका नाम लेकर भारत को बदनाम किया जा रहा है, उस पर भी औवैसी भड़के थे और यहां तक कह दिया था कि जिस विचारधारा ने गांधी और तबरेज की हत्या की उससे ज्यादा बदनामी क्या हो सकती है।