वाराणसी : दिनदहाड़े गद्दी संचालक व उसकी पत्नी की गोली मारकर हत्या

varanasi murder
वाराणसी : दिनदहाड़े गद्दी संचालक व उसकी पत्नी की गोली मारकर हत्या

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। इसकी बानगी शनिवार को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में तब देखने को मिली, जब शहर के बीचोंबीच स्थित नई सड़क के पास काली महाल में पहले पति फिर पत्नी की गोली मार कर हत्या कर दी गई। मौत के घाट उतारा गया शख्स पिशाच मोचन के गद्दीदार थे और वहीं कर्मकांड कराते थे। फिलहाल शुरुआती पड़ताल में पारिवारिक रंजिश की बात सामने आ रही है।

Gaddi Operator And His Wife Shot Dead In Broad Daylight At Varanasi :

बता दें कि पिशाच मोचन पर कर्मकांड कराने वाले गद्दी संचालक केके उपाध्याय काली महाल में रहते थे। शनिवार को वो घर पर बैठा था, जबकि उसकी पत्नी बर्तन धो रही थी। तभी वहां पहुंचे बदमाशों ने केके उपाध्याय को गोली मार दी। फायर की आवाज सुनकर वहां पहुंची उसकी पत्नी को भी बदमाशों ने गोली मार दी। वहां लोग जुटते इससे पहले हमलावर फरार हो गए। एक साथ दो हत्याओं की खबर से सनसनी फैल गई। स्थानीय पुलिस के साथ आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।

बताया जा रहा है कि इन दिनों पितृ पक्ष के कारण पिचाश मोचन पर कर्मकांड कराने वालों की भीड़ लगी है। केके उपाध्याय की जजमानी ज्यादा होने के कारण उनके पास काफी लोग रहते थे। जबकि उसके भाइयों की कमाई उतनी नहीं है। इसी को लेकर उन लोगों में विवाद होता रहता था। घटना के बाद रोते बिलखते परिवार के सदस्य पुलिस वालों से यह भी कहते रहे कि पहले से घटना की आशंका जताई जा रही थी लेकिन कुछ नहीं किया गया। वाराणसी में लगातार नृशंस हत्याओं से दहशत की स्थिति है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। इसकी बानगी शनिवार को पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में तब देखने को मिली, जब शहर के बीचोंबीच स्थित नई सड़क के पास काली महाल में पहले पति फिर पत्नी की गोली मार कर हत्या कर दी गई। मौत के घाट उतारा गया शख्स पिशाच मोचन के गद्दीदार थे और वहीं कर्मकांड कराते थे। फिलहाल शुरुआती पड़ताल में पारिवारिक रंजिश की बात सामने आ रही है। बता दें कि पिशाच मोचन पर कर्मकांड कराने वाले गद्दी संचालक केके उपाध्याय काली महाल में रहते थे। शनिवार को वो घर पर बैठा था, जबकि उसकी पत्नी बर्तन धो रही थी। तभी वहां पहुंचे बदमाशों ने केके उपाध्याय को गोली मार दी। फायर की आवाज सुनकर वहां पहुंची उसकी पत्नी को भी बदमाशों ने गोली मार दी। वहां लोग जुटते इससे पहले हमलावर फरार हो गए। एक साथ दो हत्याओं की खबर से सनसनी फैल गई। स्थानीय पुलिस के साथ आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। बताया जा रहा है कि इन दिनों पितृ पक्ष के कारण पिचाश मोचन पर कर्मकांड कराने वालों की भीड़ लगी है। केके उपाध्याय की जजमानी ज्यादा होने के कारण उनके पास काफी लोग रहते थे। जबकि उसके भाइयों की कमाई उतनी नहीं है। इसी को लेकर उन लोगों में विवाद होता रहता था। घटना के बाद रोते बिलखते परिवार के सदस्य पुलिस वालों से यह भी कहते रहे कि पहले से घटना की आशंका जताई जा रही थी लेकिन कुछ नहीं किया गया। वाराणसी में लगातार नृशंस हत्याओं से दहशत की स्थिति है।