गंदे या लिखे हुए नोट लेने से बैंक नहीं कर सकती मना: RBI

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नया निर्देश जारी किया है कि बैंक गंदे या लिखे हुए नोट लेने से इनकार नहीं कर सकती। वहीं केंद्रीय बैंकों का भी कहना है कि गंदे या लिखे हुए नोटों को बेकार नोट न माना जाए। आरबीआई के पास ग्राहकों की शिकायत आने लगी कि बैंक 500 और 2000 की ऐसी नोटों को लेने से मना कर रहा है जिसमें कुछ लिखा हो या जिनका रंग हल्का हो गया हो। ग्राहकों की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए आरबीआई ने बैंकों को यह सर्कुलर जारी किया।




दरअसल सोशल मीडिया पर आई अफवाहें (बैंकों में गंदे नोट नहीं लिए जाएंगे) सुनने के बाद सभी खासकर बैंकों ने ऐसे नोट लेने से आनाकानी शुरू कर दी। जबकि आरबीआई का कहना है कि उसने गंदे नोट स्वीकार नहीं किए जाने को लेकर कोई निर्देश जारी नहीं किया है।




केंद्रीय बैंक ने साफ शब्दों में बताया कि लिखावट को लेकर उनका निर्देश बैंक स्टाफ्स के लिए था कि वो नोटों पर कुछ न लिखें। केंद्रीय बैंक ने ऐसा निर्देश इसलिए दिया क्योंकि आरबीआई को पता चला कि खुद बैंक अधिकारियों को नोटों पर लिखने की आदत हो गई है जो रिजर्व बैंक की क्लीन नोट पॉलिसी के बिलकुल विपरीत है। रिजर्व बैंक ने सरकारी कर्मचारियों, संस्थानों और आम लोगों से बैंक नोटों पर कुछ नहीं लिखकर इन्हें साफ-सुथरा रखने में मदद करने का आग्रह किया है।